पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Chhindwara
  • Corona Won The Battle And Died In A Road Accident Of An Elderly Man Returning Home, Treatment Was Going On In The District Hospital Since 22 Days.

कोरोना से जीत गए, लेकिन हार गए जिंदगी की जंग!:कोरोना की जंग जीत कर घर लौट रहे बुजुर्ग की सड़क हादसे में मौत, 22 दिन से जिला चिकित्सालय में चल रहा था इलाज

छिंदवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे में क्षतिग्रस्त कार - Dainik Bhaskar
हादसे में क्षतिग्रस्त कार
  • पेड़ से अनियंत्रित होकर टकराई कार, 1 की मौत, 2 घायल

छिंदवाड़ा । कहते हैं जिंदगी और मौत साथ साथ चलती है । कब किसकी कहां मौत आ जाए यह कोई नहीं जानता। कुछ ऐसा ही वाक्या बीती रात अमरवाड़ा के एक 67 वर्षीय कपड़ा व्यवसाई के साथ घटित हुआ । दरअसल पिछले 22 दिनों से कपड़ा व्यवसायी प्रेम नारायण ठाकुर उम्र 67 वर्ष छिंदवाड़ा के कोविड-19 केयर सेंटर मैं कोरोना से जंग लड़ रहे थे इस जंग में भी जीत भी गए। और खुशी-खुशी अपने दोनों पुत्रों के साथ अपने घर अमरवाड़ा लौट रहे थे , तभी देर रात उनकी कार चिमौआ के पास अनियंत्रित हो गई और जाकर एक पेड़ से टकरा गई । इस हादसे में बुरी तरह से घायल हुए प्रेम नारायण ने अस्पताल जाने से पहले ही रास्ते में दम तोड़ दिया । जबकि उनके दोनों पुत्र शैलू और रितेश ठाकुर मामूली रूप से घायल हो गए जिनका अमरवाड़ा चिकित्सालय में उपचार जारी है।

23 वे दिन जीत गए थे कोरोना की जंग, अस्पताल से हो गई थी छुट्टी!

कपड़ा व्यवसायी प्रेम नारायण ठाकुर की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी । जिसके बाद उनके परिजनों ने उन्हें जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया था । वे लगभग 22 दिनों से से कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे थे, मंगलवार को उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद गुरुवार शाम उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी, और वे अपने घर कार में सवार होकर अमरवाड़ा जा रहे थे। तभी अमरवाड़ा पहुंचने से 8 किलोमीटर पहले ही उनकी कार अनियंत्रित होकर एक पेड़ से टकरा गई और वे घायल हो गए, बाद में उन्हें अन्य वाहन से अमरवाड़ा चिकित्सालय ले जाया जा रहा था जहां हृदयाघात से ही बीच रास्ते में उनकी मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...