पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तीसरी लहर का कारण न बन जाए इतवारी ट्रेन!:नागपुर से छिंदवाड़ा आने वाले यात्रियों की बढ़ रही हैं संख्या, जरा सी लापरवाही पड़ सकती है भारी

छिंदवाड़ा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रेलवे द्वारा कोरोना संक्रमण के डर के बीच इतवारी-छिंदवाड़ा पैसेंजर ट्रेन का परिचालन किया जा रहा है। ट्रेन परिचालन को लगभग एक सप्ताह हो चुका है। पहले तो संक्रमण के डर की वजह से ट्रेन में यात्रियों की संख्या नहीं के बराबर थी, लेकिन नागपुर बस सेवा बंद होने की वजह से अब यात्रियों की संख्या धीरे धीरे बढ़ रही है।

इसके चलते अब शहर में संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। रेलवे का यह निर्णय कहीं जिले को संकट में ना डाल दे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में संक्रमण के फैलाव के कारण ट्रेन परिचालन पर रोक लगा दी गई थी, लेकिन एक बार फिर इतवारी - छिंदवाड़ा पैसेंजर का परिचालन 1 जुलाई से प्रारम्भ कर दिया गया है।

मंगलवार को इतवारी से 147 यात्री छिंदवाड़ा आए है। वहीं 195 यात्री छिंदवाड़ा से इतवारी के लिए रवाना हुए है यह पहला दिन है। जब ट्रेन में इतनी संख्या में यात्री आए है। धीरे-धीरे यात्रियों की संख्या बढ़ रही है। रेलवे द्वारा यात्रियों की स्क्रीनिंग करवाकर उन्हे होम क्वारेंटाइन किया जा रहा है।

समय से पहले पहुंची पातालकोट एक्सप्रेस

16 माह बाद एक बार फिर पातालकोट एक्सप्रेस प्लेटफार्म पर पहुंची। लोगों को इस ट्रेन के चलने से जहां खुशी हुई है वहीं लोगों के मन में डर भी है । इसकी मुख्य वजह यह है कि यह ट्रेन फिरोजपुर से चलकर 40 स्टेशनों पर रूकने के बाद छिंदवाड़ा पहुंचेगी।

इसकी वजह से संक्रमण फैलने का खतरा और अधिक बढ़ गया है। सोमवार को फिरोजपुर से रवाना होकर मंगलवार की सुबह 5.55 मिनट पर ट्रेन छिंदवाड़ा पहुंची, जबकि इसका समय 6.30 बजे है।

सुबह 9.30 बजे छिंदवाड़ा से 200 से अधिक यात्रियों को लेकर ट्रेन फिरोजपुर के लिए रवाना हुई। वहीं बताया जा रहा है कि पातालकोट एक्सप्रेस में पहले दिन 147 यात्री छिंदवाड़ा आए है।

मुख्य मार्ग में ही हो रही जांच

ट्रेन के माध्यम से स्टेशन पहुंचने वाले यात्रियों की निगम टीम द्वारा स्क्रीनिंग कार्य किया जा रहा है । ताकि उन्हे होम क्वारेंटाइन किया जाए। लेकिन स्टेशन पर केवल मुख्य गेट पर ही स्क्रीनिंग कार्य किया जा रहा है । इसके अलावा आगे के रास्ते से आसानी से बिना जांच के लोग निकल जा रहे है।

वहीं प्लेटफार्म की दूसरी ओर उतर कर भी यात्री पातालेश्वर धाम की ओर चले जा रहे है। ऐसे में छिंदवाड़ा नागपुर से आए लोगो से कितना सुरक्षित है यह कहना मुश्किल है। प्रशासन भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।