धान संग्रह:खुले कच्चे कैप में रखी धान हो रही खराब

हटा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हटा की कृषि उपज मंडी में 5250 मीट्रिक टन धान रखने के लिए मं‍डी परिसर में खुले में कच्चे कैंप बनाए गए हैं। इस धान को बरसात के पहले ही उठाया जाना था जो आज तक नहीं उठाई गई। अब स्थिति यह है कि धान खराब होने लगी है। मप्र वेयर हाऊसिंग कार्पोरेशन के माध्यम से शुभम लाजिस्टिक कंपनी के द्वारा हटा मंडी परिसर में धान संग्रह का अनुबंध हुआ। कंपनी के द्वारा मंडी प्रशासन से मंडी के टीन शेड की मांग की गई। मंडी प्रशासन ने मात्र कंपनी को तीन टीन शेड उपलब्ध कराए, शेष के लिए मंडी परिसर में ही चबूतरा बनाकर धान रखने की अनुमति दे दी।

खाली पड़े अन्य शेड के लिए मंडी प्रशासन ने कंपनी मैनेजर से यह कह दिया कि हमें रिजर्व रखना पड़ता है। कंपनी के द्वारा मंडी परिसर में चबूतरा निर्माण के मापदण्डों को दरकिनार करते हुए मात्र ईटें रखकर कच्चा चबूतरों का निर्माण कर दिया एवं उसी पर खुले कैप तैयार कर दिया।श्री शुभम लाजिस्टिक कंपनी के मैनेजर रोशन कोरी ने बताया कि मंडी से सारे टीन शेड एवं चबूतरा की मांग की गई थी लेकिन मंडी प्रशासन ने मात्र तीन शेड उपलब्ध कराए, सरकार की नीति के अनुसार कच्चे कैंप की धान पहले उठना चाहिए जिसे अभी तक नहीं उठाया जा रहा है, इसी कारण यह नुकसान हो रहा है।

खबरें और भी हैं...