पूर्व CMO और नंप अध्यक्ष सहित 3 को जेल:तेंदूखेड़ा में हाइड्रोलिक ऑटो और जनरेटर खरीदी में गबन किया, कोर्ट ने सुनाई सजा

दमोहएक महीने पहले

दमोह के भ्रष्टाचार निवारण विशेष न्यायाधीश ने तेंदूखेड़ा नगर पंचायत के पूर्व सीएमओ और पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष के साथ चार लोगों को करीब साढ़े 8 लाख के गबन का आरोपी मानते हुए सजा सुनाई है। 7 साल की सजा पाने वाले तीनों आरोपियों को न्यायालय से जेल भेज दिया गया है। वहीं 2 साल की सजा पाने वाले आरोपी को जमानत मिल गई है

भ्रष्टाचार अधिनियम से जुड़े इस मामले की पैरवी करने वाले विशेष लोक अभियोजक हेमंत पांडे व मीडिया प्रभारी एडीपीओ सतीश कपस्या ने बताया कि वर्ष 2010 में तेंदूखेड़ा में एक हाइड्रोलिक ऑटो और एक जनरेटर की खरीदी की गई थी। जिसमें नगर के शोभाराम रामदेव ने आर्थिक अन्वेषण ब्यूरो में शिकायत की थी कि तत्कालीन सीएमओ नित्य नारायण पांडे उस समय की नगर पंचायत अध्यक्ष वर्षा केवट ने अधिक राशि देकर सामग्री खरीदी है और शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाई है।

मामला न्यायालय में पहुंचा और जब इस पूरे मामले की इन्वेस्टिगेशन की गई तो आरोप सिद्ध हो गए। भ्रष्टाचार निवारण कोर्ट के विशेष न्यायाधीश ने इस मामले में सुनवाई करते हुए गुरुवार को पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष वर्षा केवट तत्कालीन सीएमओ नित्य नारायण पांडे और अभ्युदय इंटरप्राइजेज भोपाल की प्रोपराइटर नीलम गुप्ता को मुख्य दोषी मानते हुए साथ साथ साल की सजा सुनाई है इसके अलावा कुलवंत ऑटोमोबाइल भोपाल के पास मेहंदी रखता को 2 साल की सजा सुनाई। साथ ही इन तीनों को अलग-अलग ₹220000 का जुर्माना भी लगाया गया है। वहीं 2 साल की सजा पाने वाले आरोपी को ₹20000 के मुचलके की जमानत पर छोड़ दिया है।

इस तरह हुआ था पूरा भ्रष्टाचार

तेंदूखेड़ा में 40 केवीए का एक जनरेटर प्लस कार कंपनी का और सड़क की साफ सफाई के लिए एक हाइड्रोलिक ऑटो रिक्शा खरीदा गया था। जांच के बाद पाया गया कि उक्त जनरेटर की दर ₹410000 एवं 13% वेट अतिरिक्त होना पाई गई थी। इस तरह लगभग 8 लाख 63 हजार 890 रू की राशि का अधिक भुगतान जनरेटर क्रय करने के लिए किया गया। ऑटो रिक्शा की कीमत अधिकृत विक्रेता ऑटो रिक्शा आपे, अनमोल ऑटो डीलर जबलपुर से दर प्राप्त की गई थी, जो 283067 रूपए थी। इस प्रकार नगर पंचायत तेंदूखेड़ा द्वारा 5,16,933 रू की अधिक राशि अभ्योदय इंटरप्राइजेज भोपाल को ऑटो मय कंटेनर एवं हाइड्रोलिक सिस्टम के लिए भुगतान की गई।