• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Datia
  • Dr. Mishra Said Earlier It Was Difficult To Get Around, Today Datia's Identity Has Become As An Island Of Peace.

आयोजन:डॉ. मिश्रा ने कहा- आसपास पहले निकलना मुश्किल होता था, आज दतिया की पहचान शांति के टापू के रूप में बन गई

दतिया24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हितग्राहियों को राशि का वितरण करते गृहमंत्री। - Dainik Bhaskar
हितग्राहियों को राशि का वितरण करते गृहमंत्री।

दतिया की चारों दिशाओं में विकास और निर्माण कार्य तेजी से हो रहे हैं। पहल कभी रात में घर से बाहर निकलना मुश्किल होता था, अब दतिया शहर की पहचान एक शांति के टापू के रूप में बन गई है। गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने यह बात रविवार को शहर के वृंदावन में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सबके लिए आवास शहरी योजना कार्यक्रम के दौरान कही। इस अवसर पर उन्होंने 317 आवासहीन और कच्चे मकानों में रहने वाले परिवारों को पहली, दूसरी और तीसरी किश्त की 2.79 करोड़ रुपए की राशि वितरित की गई।

गृहमंत्री डॉ. मिश्रा ने हितग्राहियों से कहा कि, सरकार को गरीबों की चिंता है। इसलिए उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2.50 लाख रुपए दिए जा रहे हैं, जिससे वह अपने लिए पक्का मकान बना सकें। गृहमंत्री ने हितग्राहियों से कहा कि, वह दी गई राशि का उपयोग आवास निर्माण में ही करें। दतिया की जनता का दुख उनका दुख है। समाज में सबसे पीछे और सबसे नीचे रहने वाले परिवार का उत्थान करना ही उनकी पहली प्राथमिकता है।

कार्यक्रम में नपा सीएमओ अनिल दुबे, नप अध्यक्ष प्रतिनिधि प्रशांत ढेंगुला, नपा उपाध्यक्ष प्रतिनिधि योगेश सक्सेना, पूर्व विधायक डॉ. आशाराम, पूर्व विधायक प्रदीप अग्रवाल, जिपं अध्यक्ष प्रतिनिधि धीरू दांगी, जपं अध्यक्ष प्रतिनिधि बृजेश यादव सहित पार्षद व अन्य जनप्रतिनिधि और नपा अधिकारी मौजूद रहे।

सोशल मीडिया के माध्यम से ऐसी कोशिश करनी चाहिए कि व्यक्ति के हित जंगल से जुड़ें : डॉ. मिश्रा
मप्र स्थापना दिवस के अवसर पर वनविभाग के द्वारा रविवार को पतारा के जंगल में विभिन्न प्रतियोगिताएं कराई गईं। प्रतियोगिताओं के समापन के बाद पुरस्कार वितरण समारोह का कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा मौजूद रहे। कार्यक्रम में विभिन्न प्रतियोगिताओं की जानकारी वनमंडलाधिकारी प्रियांशी राठौर ने विस्तार दी। इसके साथ ही मुख्यअतिथि डॉ. मिश्रा ने विजयी प्रतिभागियों को सम्मानित भी किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ. मिश्र ने कहा कि, जहां जंगल है वहां जानवर हैं, जहां जानवर हैं वहां जंगल है। जो एक दूसरे का पूरक है।

हमें दोनों के महत्व को समझते हुए जंगल एंव जानवरों का भी संरक्षण करन होगा। उन्होंने कहा कि, वर्तमान युग मोबाइल का युग है। सोशल मीडिया के माध्यम से ऐसी कोशिश करना चाहिए कि व्यक्ति के हित जंगल से जुड़ें। जिससे जंगल का संरक्षण होगा। उन्होंने कहा कि हमें ऐसे प्रयास करना चाहिए कि यहां सेंचुरी बने जो पर्यटन के दृष्टि से काफी लाभ भी हो। उन्होंने कहा कि, डाॅ. मिश्र ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति की एक राशि होती है। उस राशि के नाम से लोग नग धारण करते हैं। जबकि प्रत्येक व्यक्ति के नाम का राशि का वृक्ष भी होता है।

अपनी राशि के पौधे को लगाने से जहां व्यक्ति की समस्या का निदान होता है। उन्होंने कहा कि लोगों को मानव जीवन में वृक्षों के महत्व को बताते हुए पौधरोपण से जोड़कर इसे एक जन आंदोलन का रूप देना होगा। इस मौके पर जिपं सीईओ कमलेश भार्गव, भाजपा नेता अतुल भूरे चौधरी, वनविभाग के अधिकारी, कर्मचारी, प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागी और जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

अमृत योजना में 51 करोड़ रुपए होंगे खर्च: शहर में नियमित पेयजल सप्लाई के लिए अमृत योजना के तहत विकास कार्य किए जाएंगे। पानी की पाइप लाइन बिछाने से लेकर पानी की टंकी का निर्माण तक किया जाएगा। गृहमंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि, लोगों को नियमित पेयजल सप्लाई हो इसके लिए अमृत योजना में 51 करोड़ रुपए की लागत से पानी की पाइप लाइन बिछाने के साथ-साथ पानी की चार टंकियों का निर्माण भी किया जाएगा। जिससे नागरिकों को सुगमता के साथ पानी की सप्लाई की जा सके।

खबरें और भी हैं...