कई जगह अवैध रूप से रिफिल हो रही गैस:खुले हो रहा उपयोग, जिम्मेदार अधिकारी नहीं कर रहे कार्रवाई

दतिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में खान-पान की सामग्री वाली दुकानों, होटलों, शादी विवाह समारोह, चार पहिया वाहनों और हाथ ठेलों पर रसोई गैस सिलेंडर का खुलेआम उपयोग हो रहा है। जिम्मेदार अधिकारी आंखें बंद किए हुए हैं। रसोई गैस का उपयोग रोकने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा जिले में कई साल से कार्रवाई नहीं की है।

इससे होटल संचालक, चाय नाश्ते की दुकान वाले, शादी विवाह समारोह, चार पहिया वाहनों में रसोई गैस का उपयोग बेखौफ होकर किया जा रहा है। रसोई गैस का उपयोग बड़ी भट्टी आदि में करने से कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है। इसके बाद भी न तो गैस एजेंसी संचालकों और न ही खाद्य विभाग के अधिकारियों द्वारा इस ओर कार्रवाई की जा रही है।

शहर में कई बार गैस सिलेंडर के फटने की घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें कुछ लोगों की जान भी जा चुकी है। इसके बाद भी विभाग द्वारा कार्रवाई नहीं की जा रही है। शहर में संचालित तीन रसोई गैस एजेंसियों से हर महीने हजारों घरेलू गैस सिलेंडर की बुकिंग होती है, लेकिन इन एजेंसियों पर व्यवसायिक सिलेंडरों की बुकिंग इसकी तुलना में बहुत कम होती है।

रसोई गैस का उपयोग बड़ी भट्टी आदि में करने से कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है। इसके बाद भी न तो गैस एजेंसी संचालकों और न ही खाद्य विभाग के अधिकारियों द्वारा इस ओर कार्रवाई की जा रही है। शहर में कई बार गैस सिलेंडर के फटने की घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें कुछ लोगों की जान भी जा चुकी है। इसके बाद भी विभाग द्वारा कार्रवाई नहीं की जा रही है। शहर में संचालित तीन रसोई गैस एजेंसियों से हर महीने हजारों घरेलू गैस सिलेंडर की बुकिंग होती है, लेकिन इन एजेंसियों पर व्यवसायिक सिलेंडरों की बुकिंग इसकी तुलना में बहुत कम होती है।

व्यवसायिक सिलेंडर 804 रुपए महंगा

गैस एजेंसियों के कर्मचारियों के मुताबिक व्यवसायिक सिलेंडर की कीमत शहर में1927 रुपए है। वहीं घरेलू रसोई गैस सिलेंडर की कीमत मात्र 1123 रुपए है। इस प्रकार व्यवसायिक गैस सिलेंडर घरेलू गैस सिलेंडर से 803 रुपए महंगा है। इस कारण शहर के अधिकतर होटल संचालक, चाय नाश्ते की दुकान संचालक, बड़े-बड़े चाय कॉफी के होटल, शादी विवाह समारोह सहित चार पहिया वाहनों में भी घरेलू रसोई गैस सिलेंडर का उपयोग हो रहा है।

राजस्व का हो रहा नुकसान

व्यवसायिक गैस का उपयोग न कर घरेलू रसोई गैस का उपयोग करने से केंद्र और राज्य सरकार दोनों को ही हर महीनों लाखों रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है।

जमकर हो रही अवैध रूप से गैस रिफलिंग

शहर में कई चार पहिया वाहन अवैध रूप से एलपीजी गैस से चल रहे है। जिले में एक भी एलपीजी गैस का पेट्रोल पंप नहीं है। इसके बाद भी जिले में कई चार पहिया वाहन ऐसे हैं जो एलपीजी गैस से चल रहे हैं। इन वाहनों में संचालकों द्वारा अवैध रूप से घरेलू रसोई गैस के सिलेंडरों से अवैध रिफिलिंग की जाती है। इसके अलावा कई होटल संचालकों द्वारा भी व्यवसायिक सिलेंडरों में भी घरेलू गैस सिलेंडरों की गैस की रिफिलिंग कर दिखावे के रूप में व्यवसायिक सिलेंडर का उपयोग किया जाता है।

खबरें और भी हैं...