आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन:सरकारी कर्मचारी की तरह सुविधाएं व लाभ देने की मांग; एसडीएम कार्यालय के बाहर दिया धरना

खातेगांव7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

खातेगांव क्षेत्र की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने बुधवार को प्रदर्शन किया। उन्होंने खुद को शासकीय कर्मचारी घोषित कर सुविधाओं का लाभ देने की मांग की। इसको लेकर एसडीएम कार्यालय के सामने धरना दिया।

धरना दे रही आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने बताया कि मप्र आंगनवाड़ी एवं सहायिका संघ के बैनर तले धरना दिया जा रहा है। कार्यकर्ताओं की मांग है कि मप्र महिला व बाल विकास विभाग के अंतर्गत सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को शासकीय कर्मचारी घोषित करते हुए सभी शासकीय सुविधाओं का लाभ प्रदान किया जाए। सरकार के द्वारा घोषित 1500 रुपए एरियर्स के साथ भुगतान किया जाए। राज्य सरकार को केंद्र सरकार से समन्वय कर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की नियुक्ति प्रक्रिया के नियमों में संशोधित करते हुए मानदेय या मानसेवा की जगह नियमित और सीधी भर्ती को जाने की नियमावली बनाई जाए।

केंद्र से निर्धारित महंगाई भत्ते दें

जब तक नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधित नहीं किया जाता है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और मिनी आंगनवाड़ी कायकर्ताओं के मानदेय अतिरिक्त मानदेय में केंद्र से निर्धारित महंगाई भत्ते को लागू कर भुगतान किया जाए। हमें तृतीय श्रेणी एवं चतुर्थ श्रेणी का दर्जा दिया जाए। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को विभाग की ओर से कम से 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कराया जाए। सभी आंगनवाडी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं एवं मिनी कार्यकर्ता आयुष्यमान योजना की पात्रता में शामिल किया जाए। महिला बाल विकास के अतिरिक्त किसी भी अन्य कार्य में ड्यूटी न लगाई जाए।

खबरें और भी हैं...