तेंदुए की खाल का कर रहे थे अवैध परिवाहन:कोर्ट ने सुनाई 3-3 साल कैद की सजा, 10 हजार का जुर्माना भी लगाया

देवास3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तेंदुए की खाल का अवैध परिवहन करने के मामले में तीन आरोपियों को कोर्ट ने सजा सुनाई। दरअसल छह साल पहले पुंजापुरा के कांटाफोड़ मार्ग पर बौरी में तेंदुए की खाल बरामद की गई थी। एक आरोपी के घर से तेंदुए के नाखून, एक भरमार बंदूक गोली सहित अन्य सामग्री बरामद की गई थी। राजेंद्र सिंह भदोरिया जिला अभियोजन अधिकारी जिला देवास ने बताया कि प्रथम श्रेणी न्यायाधीश बागली के वन विभाग रेंज पुंजापुरा के प्रकरण में निर्णय पारित करते हुए आरोपी राकेश पिता भूरालाल, चैनसिंह पिता अंबाराम व जंगलिया पिता मांगीलाल को दोषी पाया। वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम की धारा 39 धारा सहपठित धारा 51 में तीनों आरोपियों को तीन-तीन वर्ष का सश्रम कारावास और 10 हजार-10 हजार के अर्थदंड से दंडित किया। जानकारी के अनुसार 30 अगस्त 2016 को शाम को लगभग 6:30 बजे पुंजापुरा कांटाफोड़ मार्ग पर वन परिक्षेत्र अधिकारी पुंजापुरा में वन विभाग की टीम ने एक व्यक्ति को पकड़ा था। जो बोरी लेकर खड़ा था। बोरी में से तेज बदबू आ रही थी। उसे खुलवाने पर उसमें से चमड़ मिला था इसकी जांच करने पर वह तेंदुए की खाल थी।