• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Dhar
  • The Procession Was To Come In The Evening, Before That The Team Of Child Line Reached

धार में 3 बाल विवाह रुकवाए गए:शाम को आनी थी बारात, उसके पहले पहुंची चाइल्ड लाइन की टीम

धार2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बाल विवाह की रोकथाम के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग और चाइल्ड लाइन द्वारा लगातार प्राप्त हो रही जानकारी के अनुसार बाल विवाह रुकवाए जा रहे है। शनिवार को धार में 7 घंटे के अंदर टीम के सदस्यों ने 3 स्थानों पर पहुंचकर बाल विवाह रुकवाए हैं। इन तीनों प्रकरणों में से 2 घरों में आज ही नाबालिग लड़कियों की बारात आने वाली थी। इसके पहले पुलिस को लेकर चाइल्ड लाइन की टीम घर पहुंच गई, जहां पर परिजनों को समझाइश देने के साथ पंचनामा बनाया गया।

सहायक संचालक भारती दांगी ने बताया कि एक ही दिन में 3 बाल विवाह रुकवाना विभाग के लिए बडी उपलब्धि हैं। चाइल्ड लाइन की टीम ने सूचना आने के बाद तुरंत कार्रवाई करते हुए नजदीकी पुलिस थानों से संपर्क किया और आंगनवाडी कार्यकर्ताओं की मदद लेकर कार्रवाई की। पहली कार्रवाई औद्योगिक नगरी पीथमपुर के मंडलावदा गांव में 14 वर्षीय बालिका का विवाह होने की जानकारी मिली थी। जिसके बाद टीम पहुंची और परिजनों को समझाईश दी गई।

इसी तरह दोपहर के समय थाना सेक्टर अंतर्गत तारापुरा गांव में 17 साल की नाबालिग का विवाह होने वाला था। जिसे भी रुकवाया गया। इन दोनों लड़कियों की शनिवार शाम करीब 5 बजे बारात आनी थी। इसके पहले ही टीम पहुंच गई। साथ ही दोपहर के समय तिरला के प्रेम नगर में 16 साल की लड़की का विवाह रुकवाया गया। नाबालिग का विवाह परिवार के लोग 19 मई को करने वाले थे। लेकिन हेल्प लाइन नंबर पर मिली सूचना के चलते 5 दिन पहले ही विवाह रुकवा दिया गया। कार्रवाई के दौरान संयुक्त दल द्वारा बाल विवाह स्थल पर जाकर बालिका के दस्तावेज जांचे गए, जिसमें बालिकाओं की उम्र कम पाई गई। तब संयुक्त दल द्वारा बालिका के परिवार को बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के बारे में जानकारी दी गई। कि यदि बालिका का बाल विवाह कराया जाता है। तब विवाह में शामिल प्रत्येक व्यक्ति पर अधिनियम के प्रावधानों के तहत 2 वर्ष की सजा और 1 लाख रुपए का जुर्माना का प्रावधान है। पंचनामा बनाया गया। तब परिवार द्वारा आश्वस्त कराया गया कि बालिका बालिग होने के बाद ही उसका विवाह करेंगे।

चाइल्ड हेल्पलाइन धार के जिला समन्वयक राधेश्याम काजले द्वारा बताया गया कि बाल विवाह करना कानूनन जुर्म है यदि कहीं पर बाल विवाह की जानकारी प्राप्त होती हैं तब चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 पर जानकारी देकर बाल विवाह होने से बच्चों का जीवन सुरक्षित कर सकते है।