जिला अस्पताल में क्रिटिकल केयर यूनिट:जिला अस्पताल में 16 करोड़ से बनेगी क्रिटिकल केयर यूनिट

गुना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जिला अस्पताल में क्रिटिकल केयर यूनिट बनाई जा रही है। इस यूनिट का मकसद गंभीर और असाध्य रोगों के मरीजों को अलग से उपचार सुविधाएं मुहैया करवाना है। मुख्य स्वास्थ्य एवं जिला अधिकारी राजकुमार ऋषिश्वर ने जानकारी देते हुए बताया कि जैसे प्रदेश भर के जिला अस्पतालों में आकस्मिक दुर्घटनाओं के मरीजों को तत्काल उपचार देने के लिए ट्रॉमा केयर सेंटर खोले गए हैं। ठीक वैसे ही अब से गुना के जिला अस्पताल में क्रिटिकल केयर यूनिट को बनाया जा रहा है।

राज्य शासन के द्वारा इस यूनिट को बनाने के लिए 16 करोड़ रुपए के टेंडर भोपाल से लगा दिए हैं जल्द ही इसका निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए इस तरह की यूनिट की आवश्यकता महसूस की गई है। कोरोना काल के फेज 1 एवं टू में आकस्मिक जानलेवा रोग से लड़ने के लिए शासन के जिला अस्पतालों के पास अलग से कोई व्यवस्था नहीं थी। कोरोना रोग में छोटी-मोटी बीमारी के मरीज के साथ ही कोरोना जैसी बीमारी के मरीज जिला अस्पताल में भर्ती किए जा रहे थे। यहां कोविड के मरीज को कई बार आईसीयू अन्य बीमारी से ग्रसित मरीजों के साथ शेयर करना पड़ा है।

दोबारा न बने पिछले साल जैसी स्थिति

पिछले साल जैसी स्थिति दोबारा न बने इसके लिए अब से हर जिले में क्रिटिकल केयर यूनिटों को खोला जा रहा है। यहां कोरोना जैसी महामारी वाले रोगी या अन्य किसी दूसरी महामारी के आए मरीजों को भर्ती किया जाएगा। इसके अलावा शहर में नगरपालिका के द्वारा 9 स्थानों पर डिस्पेंसरी भवनों का निर्माण किया जा रहा है जो कि इसी वर्ष पूर्ण हो जाने की संभावना है। इन सबके बन जाने के साथ ही शहर में रोगियों को हर 2 किमी की दूरी पर उपचार मुहैया होगा।

50 बेड की होगी यूनिट

  • महामारी से लड़ने के लिए जिला अस्पताल में बनाई जा रही क्रिटिकल केयर यूनिट में 50 बेड होंगे।
  • यहां ऑक्सीजन की सप्लाई से लेकर अलग से पेरामेडिकल स्टॉफ की भर्ती की जाएगी।
  • यहां के लिए चिकित्सकों की भर्ती शासन स्तर से अलग से होगी।
  • क्रिटिकल केयर यूनिट में हर समय एक से दो डॉक्टरों की ड्यूटी इमरजेंसी हालातों से निपटने के लिए रहेगी। जैसी की ट्रॉमा केयर सेंटर में रहती है।

शहर में 9 जगहों पर डिस्पेंसरी भी बनाई जा रही

"जिले में अलग से क्रिटिकल केयर सेंटर बनाया जा रहे हैं। 16 करोड़ की लागत से ये बन रहा है। इसका उद्देश्य गंभीर असाध्य बीमारियों में लोगों को अलग से उपचार की सुविधा मुहैया करवाना है। इसके साथ ही शहर में 9 जगहों पर डिस्पेंसरी भी बनाई जा रही है, जिससे लोगों को अब हर कदम पर उपचार मिलने लगेगा।"
-डाॅ.राजकुमार ऋषिश्वर, मुख्य स्वास्थ्य एवं जिला अधिकारी

खबरें और भी हैं...