• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Guna
  • Madhya Pradesh Guna Police Attack Case | Guna Encounter Important Updates And Latest News

गुना पुलिस हत्याकांड में एक्शन:शिकारियों के परिवार के दो और सदस्य गिरफ्तार, आरोपियों से लूटी गई राइफल बरामद

गुना से रोहित श्रीवास्तव और आशीष रघुवंशी3 महीने पहले

गुना के आरोन में 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में पुलिस ने मारे गए शिकारी भाइयों नौशाद और शहजाद के एक अन्य भाई सिराज खान और उनके पिता नासिर खान को भी गिरफ्तार कर लिया है। इन दोनों को नौशाद का शव छुपाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। साथ ही, पुलिस ने पुलिसकर्मियों से लूटी गई राइफल भी निसार खान से बरामद की है। इन दोनों के नाम पहले FIR में नहीं थे, लेकिन अब नामजद आरोपियों की संख्या 9 हो गई है।

उधर 3 पुलिसवालों की हत्या के बाद हुए एनकाउंटर पर सवाल उठना शुरू हो गए हैं। गुना निवासी समाजसेवी कृष्ण कुमार रघुवंशी ने CJM कोर्ट में याचिका दायर कर इस एनकाउंटर की जांच कराने की मांग की है। CJM आदित्य सिंह की कोर्ट ने याचिका स्वीकार कर ली है। सुनवाई 17 मई को होगी।

रविवार को दायर की गई याचिका में कहा गया है कि पुलिस ने ताकतवर लोगों को बचाने के मकसद और सबूत मिटाने के लिए एनकाउंटर किया है। बिना किसी जांच-पड़ताल, बिना गिरफ्तारी के एनकाउंटर बताकर तीन लोगों की हत्या की गई है। जबकि, कानून यह कहता है कि किसी भी घटना में अगर कोई व्यक्ति शामिल है तो उसे गिरफ्तार कर 24 घंटे में मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना होता है। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का भी पालन नहीं किया गया।

बिदोरिया, भोडनी, बजरंगगढ़ के जंगलों में पुलिस की 5 अलग-अलग टीमों को सर्चिंग में लगाया गया है। बिदोरिया गांव में दो अलग-अलग थानों की पुलिस के अलावा STF, SAF, QRF की 2 कंपनी तैनात की गई हैं।

पुलिस ने कल दो कुओं में इंसास राइफल फेंके जाने की सूचना पर 10 घंटे सर्च ऑपरेशन चलाया था। कुछ नहीं मिलने पर सर्च ऑपरेशन को रोक दिया गया।

अब तक ये कार्रवाई हुई
पुलिस ने इस मामले में अब तक 9 नामजद आरोपी बनाए है। इनमें से 2 आरोपी नौशाद और शहजाद को मुठभेड़ में मार गिराया। जबकि 4 को गिरफ्तार किया है। 3 आरोपी फरार है। पुलिस पर हमले के आरोपी सोनू उर्फ शफाक खान और मोहम्मद जिया खान को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। इन दोनों ने भागने की कोशिश की, जिसके बाद पुलिस ने इनके पैरों में गोली मारी। ये दोनों जिला अस्पताल में भर्ती है। जबकि पुलिस पर हमले के ही आरोपी गुल्लू खान उर्फ गोलू, छोटू खान और विक्की उर्फ दिलशाद फरार है। पुलिस ने एनकाउंटर में मारे गए नौशाद और शहजाद के भाई सिराज खान और पिता निसार खान को सोमवार को गिरफ्तार किया है।

खबर आगे पढ़ने से पहले इस पोल पर अपनी राय दे सकते हैं...

जानिए, अब तक क्या-क्या हुआ?
गुना में शुक्रवार तड़के 5 से ज्यादा शिकारियों ने 3 पुलिसकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मुठभेड़ में एक शिकारी नौशाद खान भी मारा गया था। पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद पुलिस एक्शन में आई और शनिवार देर रात तक जवाबी कार्रवाई में नौशाद के भाई शहजाद को भी मार गिराया। शनिवार देर शाम हुए शहजाद के एनकाउंटर में धीरेंद्र गुर्जर नाम का पुलिसकर्मी भी घायल हो गया।

नेता प्रतिपक्ष ने की न्यायिक जांच की मांग
गुना पुलिस हत्याकांड में कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने भाजपा जिला उपाध्यक्ष हीरेन्द्र सिंह बंटी, मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया,केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के फोन कॉल की डीटेल्स निकाले जाने की मांग की है। साथ ही कहा कि पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह की भी कॉल डिटेल्स निकलवा ली जाए, जिससे सब साफ हो जाएगा। उन्होंने इस पूरे मामले की न्यायिक जांच करने की मांग की है।

गोविंद सिंह ने आरोप लगाया कि गुना SP राजीव मिश्रा का भी संरक्षण शिकारियों को है। ग्वालियर आईजी को बीजेपी की आपसी खींचतान के कारण हटा दिया गया। उन्होंने एक फोटो भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिखाया, जिसमें भाजपा जिला उपाध्यक्ष हीरेंद्र सिंह बंटी बना एसपी मिश्रा को मिठाई खिलाते दिख रहे हैं।

ये तस्वीर डॉ. गोविंद सिंह ने उपलब्ध करवाई है, जिसमें भाजपा के जिला उपाध्क्ष हीरेंद्र सिंह बंटी बना एसपी राजीव मिश्रा को मिठाई खिलाते दिख रहे हैं। हीरेंद्र सिंह को शिकारियों का संरक्षक बताया जा रहा है। हालांकि वे सीधे तौर पर आरोपी नहीं हैं और न ही पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई की है।
ये तस्वीर डॉ. गोविंद सिंह ने उपलब्ध करवाई है, जिसमें भाजपा के जिला उपाध्क्ष हीरेंद्र सिंह बंटी बना एसपी राजीव मिश्रा को मिठाई खिलाते दिख रहे हैं। हीरेंद्र सिंह को शिकारियों का संरक्षक बताया जा रहा है। हालांकि वे सीधे तौर पर आरोपी नहीं हैं और न ही पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई की है।

भागने की कोशिश में दो आरोपियों का शॉर्ट एनकाउंटर
गुना के आरोन इलाके में पुलिस और शिकारियों के बीच हुई मुठभेड़ के दूसरे दिन पूरे समय गहमा-गहमी रही। पुलिस की गाड़ियां जिलेभर में बाकी आरोपियों की तलाश में घूमती रहीं। शनिवार को गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों के साथ 'विकास दुबे पार्ट-2' वाला मामला बना। रविवार को पुलिस आरोपी जिया खान और शानू को कोर्ट ले जा रही थी। रास्ते में उन्होंने पुलिस की गाड़ी पलटाने की कोशिश की।

गाड़ी सड़क से उतरकर खाई में गिर गई। जिसके बाद दोनों आरोपियों ने मौके से भागने की कोशिश की। पुलिस ने दोनों के पैर में गोली मारकर उन्हें पकड़ा। अस्पताल में इलाज के बाद दोनों को आरोन कोर्ट में पेश किया गया, जहां से जेल भेजने के आदेश हुए। घायल होने की वजह से पुलिस ने उन्हें जिला अस्पताल के कैदी वार्ड में भर्ती कराया है।

शॉर्ट एनकाउंटर में घायल शानू और जिया खान को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
शॉर्ट एनकाउंटर में घायल शानू और जिया खान को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दो अन्य को भी हिरासत में लिया
सूत्रों की मानें तो मामले में दो और आरोपी गोलू और विक्की को पुलिस ने पकड़ लिया है। बजरंगगढ़ के जंगल से ये दोनों पकड़े गए हैं। इनका साथी बल्लू अभी भी फरार है। उसके बारे में ये दोनों भी खुलकर कुछ नहीं बता रहे हैं। इन दो आरोपियों का कहना है कि बल्लू इनसे अलग तरफ भागा था। हालांकि, इन दोनों के पकड़े जाने की आधिकारिक पुष्टि भी पुलिस ने नहीं की है। SP राजीव मिश्रा अभी तक केवल दो आरोपियों की मौत की ही पुष्टि कर रहे हैं।

पुलिस को गांव के कुएं में लूटी गई राइफलें फेंके जाने की जानकारी मिली थी।
पुलिस को गांव के कुएं में लूटी गई राइफलें फेंके जाने की जानकारी मिली थी।

भाई के बगल में बनी कब्र
मुठभेड़ में मारे गए शिकारी नौशाद खान को शनिवार को ही सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया था। देर रात उसका भाई भी एनकाउंटर में मारा गया। उसके पिता ने शहजाद की शिनाख्त की। रविवार दोपहर को PM के बाद उसका शव गांव पहुंचा। नौशाद के बगल में ही उसकी कब्र बनाई गई। पुलिस और परिवार की मौजूदगी में उसे दफनाया गया।

ये भी पढ़ें:-