समस्या:दो साल में पुल का एक पिलर भी बनकर तैयार नहीं, गीली मिट्टी में फंस रहे वाहन

आलमपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगर में सोनभद्रिका नदी पर 7.48 करोड़ रुपए से चल रहा पुल का निर्माण अधूरा

आलमपुर नगरवासी सोनभद्रिका नदी पर बन रहे पुल निर्माण की मांग कर रहे थे, जिसके बाद दो साल पहले पुल का निर्माण शुरू किया गया, लेकिन अब तक इस पुल का एक भी पिलर पूरी तरह से बनकर खड़ा नहीं हो सका है। वर्तमान स्थिति यह है कि ठेकेदार ने नदी में आवागमन के लिए गिट्टी और मिट्टी डालकर कच्चा रपटा बना रखा है। लेकिन रोजाना भारी वाहनों के निकलने से वहां पर ट्रैफिक जाम हो जाता है। गुरुवार को बारिश के चलते रपटे के ऊपर बिछी मिट्टी गीली होने से कई वाहन सुबह के समय फंस गए।

गौरतलब है कि साेनभद्रिका नदी पर नवीन पुल बनाने की मंजूरी वर्ष 2019 में शासन द्वारा 7.48करोड़ रुपए की मंजूरी दी गई थी। वहीं जनवरी 2020 में तत्कालीन मंत्री और लहार विधायक डॉ.गोविंद सिंह ने भूमि पूजन किया था। जिसके बाद ठेकेदार ने एक दिन काम करते हुए निर्माण कार्य रोक दिया, जो लॉकडाउन के समय भी बंद रहा था। मार्च 2021 में ठेकेदार द्वारा फिर से पुल बनाने का काम शुरू किया गया। लेकिन निर्माण कार्य की गति इतनी धीमी है कि दो साल बीत जाने के बाद भी अभी तक पुल का एक पिलर भी बनकर तैयार नहीं हो सका है।

मेंटेनेंस के अभाव में जर्जर हो गया पुराना पुल
होल्कर स्टेट के राजाओं द्वारा बनाए गए करीब वर्ष1956 में सोनभद्रिका नदी पर पुल का निर्माण कराया गया था। लेकिन समय-समय पर पुल का मेंटेनेंस नहीं होने से वह जर्जर हो गया था। जिसके चलते नगरवासियों ने जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक अधिकारियों से नदी पर नवीन पुल निर्माण की मांग, लोगों की मांग पर पूर्व मंत्री डॉ.गोविंद सिंह ने शासन से पुल निर्माण की मंजूरी दिलाई।

पुल नहीं बनने से बारिश होने पर आमजन होते हैं परेशान
आलमपुर निवासी देवेंद्र मिश्रा, अनिल कौरव, नवीन तिवारी, शिवकुमार राठौर, छोटू दीक्षित,चैनू कौरव,त्रिलोक सिंह आदि का कहना हैं कि ठेकेदार ने नवीन पुल निर्माण शुरू करने से पहले पुराने पुल को तोड़ दिया था। उसके स्थान पर आवागमन के लिए एक कच्चा रपटा बनाया दिया था। लेकिन जब बारिश होती है तो रपटे के ऊपर बिछी हुई मिट्टी कीचड़ में तब्दील हो जाती है। ऐसे में वाहन मिट्टी में फंस जाते हैं। वहीं पैदल निकलना भी काफी मुश्किल भरा हो जाता है। वहीं बारिश के सीजन में जब नदी में पानी अधिक बढ़ जाता है तो रपटा डूब जाता है। ऐसे में हम नगरवासियों का आवागमन पूरी तरह से रूक जाता है।

90 फीट लंबा बनेगा पुल : जानकारी के अनुसार सोनभद्रिका नदी पर बन रहा नवीन पुल की चौड़ाई 18 फीट और लंबाई 90फीट रहेगी। नदी में तीन नए पिलर बनेंगे। साथ ही पुल के दोनों तरफ मजबूत रेलिंग का निर्माण कराया जाएगा। ताकि लोगों की सुरक्षा रहे।

खबरें और भी हैं...