पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अवैध कारोबार:जिले में शराब की 20 से ज्यादा अवैध फैक्ट्रियां, माफिया ने पैकिंग के लिए मशीनें तक लगा लीं

भिंड13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नकली शराब के क्वार्टर पैक करते माफिया और उसके लोग। - Dainik Bhaskar
नकली शराब के क्वार्टर पैक करते माफिया और उसके लोग।
  • शराब माफिया को राजनैतिक सरंक्षण, ऐसे में यहां भी हाे सकती है मुरैना जैसी घटना

मुरैना जिले में जहरीली शराब पीने से 16 लोगों की मौत हो गई। ऐसे हालात भिंड जिले में भी बन सकते हैं। वजह, यहां भी बड़े पैमाने पर अवैध शराब बनाकर खपाई जा रही है। जिले में अवैध शराब की 20 से ज्यादा फैक्ट्रियां संचालित हैं लेकिन न आबकारी महकमा कोई कार्रवाई करता है न स्थानीय पुलिस ध्यान देती है।

जिले में प्रतिदिन करीब 60 लाख रुपए की शराब की बिक्री होती है लेकिन जिले में चल रहे अवैध शराब के कारोबार के चलते यह बिक्री घटकर 30 लाख रुपए प्रतिदिन की रह गई है। हालत यह है कि गली मोहल्लों में न सिर्फ खुलेआम देशी और अंग्रेजी शराब बिक रही है, बल्कि ग्रामीण अंचल में घरों में फैक्ट्री लगाकर नकली शराब तैयार की जा रही है। जिले में अवैध शराब का कारोबार इतना फैल गया है कि दूसरे जिलों में भी बड़ी मात्रा में नकली शराब भेजी जा रही है।

कई माफिया ने तो क्वार्टर पैक करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक मशीनें तक लगा रही है। जिले में 30 से ज्यादा लोग अवैध शराब की सप्लाई करने का ही कार्य कर रहे हैं। आबकारी महकमा इन अवैध फैक्ट्रियों पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है। पुलिस इक्का दुक्का कार्रवाई कर सिर्फ औपचारिकता करती है। इसलिए शराब माफिया बेखौफ होकर अवैध शराब बना रहा है।

  • घट गई शराब बिक्री: जिले में पहले रोज 60 लाख रुपए की बिक्री होती थी, अब घटकर 30 लाख रह गई
  • पार्टनरशिप में संचालित फैक्ट्रियां: बड़े स्तर पर हो रहे अवैध शराब का कारोबार लोग मिलकर कर रहे हैं
  • आसानी से मिल रही ओपी: बोटलिंग प्लांट से ही अवैध रूप से निकालकर बेची जा रही ओपी

भास्कर खुलासा: अकलोनी, सीता की गढ़िया, छीमका में चल रहीं मौत की फैक्ट्रियां

1- गोरमी थाना के अंतर्गत ग्राम अकलोनी इस समय अवैध शराब बनाने का सबसे बड़ा हब बना हुआ है। इस गांव में एक पांच से ज्यादा नकली शराब बनाने फैक्ट्रियां चल रही है। गांव में एक दूसरे से कॉम्पटीशन में अधिक से अधिक शराब बनाई जा रही है।

2- ऊमरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम सीता की गढिया में भी अवैध शराब बनाने की फैक्ट्री संचालित हो रही है। यह फैक्ट्री तीन लोगों की पार्टनरशिप में संचालित हो रही है। इसी प्रकार से हवलदार सिंह का पुरा में भी अवैध रुप से शराब बनाई जा रही है।

3- इसी प्रकार गोहद थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम तुकेड़ा के माता का पुरा में नकली शराब बनाई जा रही है। इसी प्रकार से छीमका गांव में भी अवैध शराब बनाने एक फैक्ट्री संचालित हो रही है। वहीं गोहद चौराहा और मालनपुर के बीच भी एक फैक्ट्री चल रही है।

राजनैतिक संरक्षण, इसलिए जानकारी होने पर भी कार्रवाई नहीं

जिले में अवैध शराब का कारोबार राजनैतिक सरंक्षण में चल रहा है। यही वजह है कि आबकारी विभाग और पुलिस इन फैक्ट्री पर कार्रवाई नहीं करती है। हाल ही में जब देहात थाना पुलिस ने एक युवक के घर से 18 पेटी देशी शराब पकड़ी तो उसने बताया था कि वह यह शराब अकलोनी गांव से लेकर आया था। इससे पहले भी अवैध शराब की फैक्ट्रियां चलाने वाले गांव के नाम पुलिस के सामने आते रहे हैं लेकिन खास कार्रवाई नहीं हुई।

शराब की फैक्ट्रियों से अवैध रूप से निकाली जा रही ओपी

सूत्रों की मानें तो अवैध शराब के कारोबार को बढ़ावा देने में सरकार के अधिकृत बोटलिंग प्लांट की भी बड़ी भूमिका है। दरअसल शराब बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण सामग्री ओपी बोटलिंग प्लांट से ही अवैध रूप से निकालकर बेची जाती है, जिसे ट्रांसपोर्टर की मदद से केन में भरकर केमिकल के नाम पर अवैध रूप से फैक्ट्री संचालित करने वालों तक पहुंचाया जाता है। बावजूद जब आबकारी अथवा पुलिस द्वारा ओपी पकड़ी गई तो कभी भी यह पता लगाने का प्रयास नहीं किया गया कि आखिर यह ओपी कहां से और कैसे आई।

हमारे पास पांच सिपाही हैं, कैसे करें कार्रवाई

हमारे पास सिर्फ पांच सिपाही हैं। इनमें एक या दो सिपाही किसी न किसी काम में व्यस्त रहते हैं। शेष तीन सिपाही के साथ कार्रवाई करना संभव नहीं है। पुलिस से हमें सहयोग नहीं मिलता, फिर भी हम कलेक्टर साहब से बातकर अभियान चलाएंगे। शराब की अवैध फैक्ट्री को बंद कराया जाएगा।

-आरके तिवारी, जिला आबकारी अधिकारी, भिंड

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser