लॉकडाउन / सिर्फ 7 यूनिट रक्त शेष, लेकिन रक्तदाताओं की वजह से सभी को मदद

X

  • लॉकडाउन के दौरान स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक संगठन रक्तदान शिविर का आयोजन नहीं कर पा रहे हैं

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

भिंड. लॉकडाउन के दौरान स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक संगठन रक्तदान शिविर का आयोजन नहीं कर पा रहे हैं। रक्तदान शिविर नहीं होने से ब्लड बैंक में सिर्फ 7 यूनिट ब्लड बचा है, इसके बावजूद ब्लड बैंक पहुंचने वाले जरूरतमंदों को रक्त की किल्लत का ज्यादा सामना नहीं करना पड़ता, क्योंकि रक्तदाता एक फोन कॉल पर निस्वार्थ रक्तदान के लिए पहुंच जाते हैं।
    गौरतलब है कि कोरोना महामारी के कारण ब्लड बैंक में ए,बी,एबी और पॉजिटिव ग्रुप का एक भी यूनिट ब्लड उपलब्ध नहीं है, जबकि ओ पॉजिटिव 350 एमएल की एक यूनिट और 100 एमएल की एक यूनिट ब्लड मौजूद है। वहीं ए,बी,एबी निगेटिव ग्रुप में बैंक के पास एक भी ब्लड यूनिट(350 एमएल) उपलब्ध नहीं है। शनिवार तक ब्लड बैंक में 350 एमएल और 100 एमएल के कुल 7 पैकेट मौजूद थे। ब्लड बैंक प्रभारी डॉ.देवेश शर्मा ने शहर के लोगों से लॉकडाउन में रक्तदान करने का आग्रह किया है ताकि ब्लड बैंक में रक्त स्टोर किया जा सके।

शिविर में 50 यूनिट एकत्रित होता है ब्लड
डॉ. देवेश शर्मा बताते हैं कि लॉकडाउन लागू होने के बाद जिलेभर में एक भी रक्तदान शिविर का आयोजन नहीं हुआ है, जबकि लॉकडाउन से पहले जो भी कैंप लगे में40 से 50 यूनिट तक ब्लड एकत्रित किया गया था। वहीं अगस्त 2019 में स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाए गए शिविरों के माध्यम से 650 यूनिट ब्लड और अक्टूबर 2019 में लगे कैंप के द्वारा 250 यूनिट ब्लड एकत्रित हुआ था।
लॉकडाउन में 227 लोगों ने किया रक्तदान
लॉकडाउन में 227 लोग जरूरतमंद मरीजों के लिए ब्लड डोनेट कर चुके हैं। जिसमे संजीवनी रक्तदान संगठन के 125, नवजीवन रक्तदान संगठन के 70 और संकल्प सेवा समिति के 32सदस्यों ने रक्तदान किया है। बताना होगा कि जिला अस्पताल में सबसे अधिक ब्लड की जरूरत प्रसूता महिलाओं को पड़ती है। प्रतिदिन औसतन 3 से 4 यूनिट ब्लड उन्हें चढ़ाया जाता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना