पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नगर निगम का प्रस्ताव:भिंड को दो साल बाद फिर नगर निगम बनाने की तैयारी, चुनाव से पहले मेहगांव बन सकती है नपा

भिंड10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो साल पहले तत्कालीन भाजपा सरकार ने दी थी मंजूरी, कमलनाथ सरकार ने अटकाया
  • राज्य मंत्री ओपीएस भदौरिया बोले- भिंड को नगर निगम बनाने के प्रस्ताव को फिर आगे बढ़ाएंगे

विधानसभा उपचुनाव से पहले भिंड नगर पालिका को एक बार फिर नगर निगम बनाने की कवायद शुरू होगी। साथ ही मेहगांव नगर परिषद को भी नगर पालिका बनाया जा सकता है। इस संबंध में प्रदेश सरकार के नगरीय विकास एवं आवास राज्य मंत्री ओपीएस भदौरिया ने इशारा किया है। उन्होंने कहा है कि उपचुनाव से पहले वे मेहगांव को नगर पालिका बनवाने का पूरा प्रयास करेंगे। साथ ही भिंड नगर निगम के संबंध कहां तक कार्रवाई हुई, यह भी जानकारी लेकर उसे आगे बढ़ाएंगे। दरअसल साल 2018 में विधानसभा चुनाव से पहले तत्कालीन भाजपा सरकार की आखिरी कैबिनेट बैठक में भिंड नगर पालिका को नगर निगम बनाने की मंजूरी मिली थी। इसके अलावा रौन और मालनपुर को भी नगर परिषद बनाए जाने का निर्णय हुआ था लेकिन चुनाव के बाद सत्ता परिर्वतन के बाद यह पूरा मामला ठंडा पड़ गया। मार्च महीने में एक बार फिर प्रदेश की सत्ता में भाजपा के काबिज होने के बाद फिर भिंड नगर पालिका के नगर निगम बनने की उम्मीद जाग गई है। अब जिले से ही मेहगांव के पूर्व विधायक ओपीएस भदौरिया नगरीय विकास एवं आवास विभाग में राज्य मंत्री हैं। इससे उम्मीद फिर जागी है कि भिंड को नगर निगम बनाने की प्रक्रिया आगे बढ़ेगी। मंत्री भदौरिया का कहना है कि भिंड को नगर निगम बनाया जाए इसके लिए वे शीघ्र कार्रवाई शुरू कराएंगे। साथ ही मेहगांव को लहार की तरह उपचुनाव से पहले नगर पालिका भी बनवाया जाएगा।

लहार को नियम शिथिल कर बनाया गया था नगरपालिका

6 किमी के दायरे में 35 गांव शामिल कर बनाया जाना था निगम
बता दें कि अक्टूबर 2018 में भाजपा सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के तहत भिंड शहर से 6 किलोमीटर के दायरे में बसे 35 गांव को शामिल कर नगरनिगम बनाया जाना था। भिंड के नगरनिगम बनने से न सिर्फ शहर के विकास में तेजी आती। बल्कि क्षेत्रीय लोगों की सुविधाओं में भी इजाफा होता। इसी प्रकार से मेहगांव नगरपरिषद को नगरपालिका बनाया जाता है तो वहां भी विकास के बजट में बढ़ोत्तरी होगी, जिसका सीधा लाभ क्षेत्रीय जनता को होगा। वर्तमान में शहर की आबादी ढाई लाख से अधिक है।
लहार को नगरपालिका बनाने के लिए पांच नए वार्ड जोड़े गए थे
विदित हो कि 35.5 हजार से अधिक आबादी वाली लहार नगरपरिषद को भी कमलनाथ सरकार में तत्कालीन मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने नगरपालिका बनवाने का निर्णय कराया था, जिसके लिए परिसीमन में पांच नए वार्ड भी जोड़े गए थे। इसके लिए कांग्रेस सरकार ने नियमों को शिथिल भी किया था। इसी प्रकार से अब मेहगांव के पूर्व विधायक और प्रदेश सरकार में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भदौरिया भी मेहगांव को नगरपरिषद से नगरपालिका बनाए जाने के लिए अफसरों से चर्चा कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें