पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अनदेखी:दुकानदारों ने खुद घेरा फुटपाथ और सड़क पर लगवा रहे ठेले, नहीं हो रही कार्रवाई

भिंडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिम्मेदार बोले- जल्द ही कार्रवाई कर बाजार से हटवाएंगे अतिक्रमण

शहर में स्टेशन रोड पर सर्वाधिक अतिक्रमण होने से परेड चौराहा से जिला शिक्षा कार्यालय तक पहुंचना मुश्किल हो रहा है। इस समस्या का समाधान कराने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा नगर पालिका परिषद कार्यालय को पत्र भेजा गया है। इसमें उल्लेख किया गया है कि करीब दाे महीने पहले अतिक्रमण हटवाया गया था लेकिन फिर पहले जैसे हालात निर्मित हो गए हैं। इसलिए निकाय के मदाखलत दस्ते को भेजकर इस मार्ग को अतिक्रमण मुक्त कराया जाए जिससे लोग ठीक प्रकार से आवागमन कर सकें।

यहां बता दें परेड चौराहा के एक ओर सदर बाजार है तो दूसरी ओर स्टेशन रोड है। हालांकि अब नेरोगेज रेलवे स्टेशन नहीं रहा है पर इस रोड का नाम पूर्ववत बना हुआ है। इस पर परेड चौराहा से अतिक्रमण की शुरूआत हो जाती है। इस रोड के फुटपाथ पर दुकानदार पूरी तरह से कब्जा किए हुए हैं। इनका सामान फुटपाथ के बाहर तक सजा रहता है। फुटपाथ के बाद नाली और इसी से सटकर सड़क बनी हुई है। सड़क पर कोई हाथ ठेला लगाकर तो कोई तखत रखकर दुकान सजाए हुए हैं। इसके बाद घूम- घूमकर सामान बेचने वाले हाथ ठेले खड़े हो रहे हैं। इन हालातों में आवागमन करने के लिए सड़क नाममात्र के लिए बचती है। ऐसे में वाहनों को खड़ा किए जाने के लिए तो जगह ही नहीं बच रही है। जब वाहन गुजरते तब इनके आपस में टकराने और लोगों के दुर्घटना की आशंका रहने लगी है।

फुटपाथ घिरे होने के कारण बाजारों में समस्या
स्टेशन रोड की चौड़ाई 40 फीट के करीब है। इसके बाद दोनों ओर 5-5 फीट का फुटपाथ है। इस प्रकार से 50 फीट स्थान होने के बाद भी आवागमन मुश्किल हो रहा है। नागरिकों का कहना है कि दुकानदार पहले तो फुटपाथ घेरे हुए हैं इसके बाद ठेले वालों को दुकान के सामने ठेले खड़े कराए जा रहे हें। इसके एबज में ठेले वालों से दुकानदार किराया भी वसूलते हैं अन्यथा अपनी दुकान के सामने कोई किसी को कोई क्यों खड़े होने देगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें