पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:सूत्र सेवा की चलना थी 37 बसें, ढाई साल में सिर्फ 11 को मिल पाए परमिट

भिंड3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीटीआई रोड स्थित कंपनी मालिक के गार्डन में खड़ीं बसें। - Dainik Bhaskar
बीटीआई रोड स्थित कंपनी मालिक के गार्डन में खड़ीं बसें।
  • निजी बस ऑपरेटर्स के विवाद के चलते सफल नहीं हो पा रही सूत्र सेवा
  • निजी बस ऑपरेटर वसूल रहे मनमाना किराया

राज्य परिवहन सेवा की तर्ज पर प्रदेश सरकार द्वारा प्रारंभ की गई सूत्र सेवा सफल नहीं हो पा रही है। स्थिति यह है कि पहले चरण में 37 बसों का संचालन होना था। लेकिन ढाई साल में सिर्फ 11 बसों को परमिट मिल पाया है। शेष बसें परमिट के इंतजार में ठेका लेने वाली ट्रांसपोर्ट कंपनी के गैराज में खड़ी धूल फांक रही है। इधर सूत्र सेवा की बसों की संख्या में वृद्धि न होने के कारण लोगों को निजी बस ऑपरेटर्स की मनमानी का शिकार होना पड़ रहा है।

यहां बता दें कि विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश सरकार द्वारा अमृत योजना के तहत सूत्र सेवा बस चलाई थी। लेकिन इन बसों का संचालन रोडवेज बसस्टैंड से किए जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया। जिला प्रशासन जैसे तैसे इस विवाद को किसी तरह से सुलटा पाया तो निजी बस ऑपरेटर्स ने उनके परमिट को लेकर आपत्ति खड़ी कर दी। परिणामस्वरुप करीब ढाई वर्ष का समय गुजरने के बाद भी अब तक सिर्फ 11 बस को परमिट मिल पाए हैं। जबकि शेष 16 परमिट के लिए अभी भी सूत्र सेवा का ठेका लेने वाली कंपनी को इंतजार है।

मनमाना किराया वसूल रहे

इधर निजी बस ऑपरेटर्स द्वारा यात्रियों से मनमाना किराया वसूला जा रहा है। हालत यह है कि भिंड से ग्वालियर की दूरी 78 किलोमीटर है। लेकिन इस रूट पर निजी बस ऑपरेटर्स 80 रुपए किराया ले रहे हैं। वहीं भिंड से इटावा की दूरी 30 किलोमीटर है। जबकि कोरोना काल के बाद से इस रूट पर 70 रुपए किराया वसूल किया जा रहा है। यही स्थिति अन्य छोटे रूटों की है। जहां कोरोना के नाम पर किराया में वृद्धि तो कर दी गई। लेकिन डग्गामार गाडियों में किसी तरह के सोशल डिस्टेंसिंग पालन नहीं किया जा रहा है।

ज्यादातर निजी बसें खस्ताहाल

एक ओर निजी बस ऑपरेटर्स यात्रियों से मनमाना किराया वसूल कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर छोटे चेसिस पर मानक से अधिक सीटें लगवा दिए जाने से यात्री ठीक ढंग से बैठ भी नहीं पाते हैं। स्थिति यह है कि पांच फीट हाइट वाले व्यक्ति को भिंड से ग्वालियर तक इन सीट पर बैठकर सफर करना मुश्किल हो जाता है। यही वजह है कि भिंड बसस्टैंड से ग्वालियर जाने के लिए ज्यादातर यात्री सूत्र सेवा की बसों को पसंद कर रहे हैं। वहीं इन बसों में किराया भी 1 रुपए प्रति किलोमीटर के मान से लिया जा रहा है।

सूत्र सेवा का बसस्टैंड भी नहीं

एक ओर जिला प्रशासन सूत्र सेवा की बसों को जहां परमिट नहीं दिला पा रहा है। वहीं दूसरी ओर सूत्र सेवा के लिए अलग से बसस्टैंड भी नहीं बन पाया है। जब यह सेवा प्रारंभ हुई थी तब नगरपालिका द्वारा रोडवेज बसस्टैंड इस सेवा को चलाने वाली कंपनी को दे दिया गया था। लेकिन निजी बस ऑपरेटर्स द्वारा विवाद खड़ा कर दिए जाने के बाद रोड बसस्टैंड का बंटवारा कर दिया गया। साथ ही सूत्र सेवा का नया बसस्टैंड बनाने की बात नगरपालिका द्वारा कही गई। लेकिन करीब ढाई वर्ष बाद भी नया बसस्टैंड बनकर तैयार नहीं हो पाया है।

परमिट नहीं मिलने से आ रही दिक्कत

सूत्र सेवा की 37 बसों का संचालन होना था, जिस कंपनी को ठेका हुआ था उसने 16 बसें खरीद ली थी। लेकिन अब तक सिर्फ 11 बस को परमिट मिल पाए हैं। शेष बसें परमिट के इंतजार में नहीं चल पा रही हैं।

- इंजी. दीपक अग्रवाल, मैनेजर, बीसीटीएसएल

इन रूटों पर चल रही सूत्र सेवा

रूट परमिट
भिंड से ग्वालियर 06
अटेर से ग्वालियर 02
लहार से ग्वालियर 02
मेहगांव से फूप 01

नोट: इसके अलावा भिंड से मुरैना, सबलगढ़, गुना, दतिया आदि शहरों के लिए परमिट का इंतजार है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें