पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • There Will Be A Pond And Park In The Foothills, So That Tourists Visiting The Fort Can Do Boating.

नए रूप में दिखेगा अटेर किला:तलहटी में तालाब और पार्क बनेगा, ताकि किला घूमने आने वाले सैलानी बोटिंग भी कर सकें

फूफएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

चंबल नदी के किनारे मौजूद अटेर किले को प्रशासन पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने जा रहा है। जिसके चलते किले के पास तालाब का निर्माण होगा। जिसमें किला देखने के लिए आने वाले सैलानी बोटिंग कर सकेंगे। इसके साथ ही किले के आसपास खाली पड़ी हुई जमीन को पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा। जहां पर सैलानियों के लिए कैंटीन खोली जाएगी। तत्कालीन कलेक्टर छोटे सिंह ने मार्च महीने के शुरुआती दिनों में अटेर किला का भ्रमण करते हुए इसको पर्यटन के रूप में विकसित करने के लिए एमपी टूरिज्म भोपाल और पुरातत्व विभाग को प्रस्ताव बनाकर भेजा था। मंजूरी के बाद निर्माण शुरू होगा।

350 साल से अधिक पुराना है किला: किले का इतिहास 350 साल से ज्यादा पुराना है। इसका निर्माण सन् 1644 में भदौरिया शासक बदन सिंह ने प्रारंभ कराया था। सन1668 में महासिंह भदौरिया के कार्यकाल में इसका निर्माण पूरा हुआ। किला पूर्व से पश्चिम तक 700 फीट एवं उत्तर से दक्षिण तक 325 फीट है। इसमें 17 बुर्ज और चार प्रवेश द्वार हैं। दुर्ग के भवनों में सात मंजिला भवन प्रमुख है, जिसका निर्माण दुर्ग के भीतर चौकसी के लिए एक बुर्ज के रूप में किया गया था।

खबरें और भी हैं...