आरोपी को मिली सजा:आरोपी संदीप को जेल भेजा, लुटेरी दुल्हनों का भाई बनकर शादी के लिए तलाशता था शिकार

डबराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लुटेरी बहनों का भाई बनकर कुंवारे युवकों को फंसाने वाले संदीप शर्मा को तीन दिन की पूछताछ के बाद जेल भेज दिया है। संदीप ने पूछताछ में पुलिस को बातया कि वह लुटेरी दुल्हन गैंग का सरगना है और कुंवारें लोगों को तलाश कर उनकी शादी नंदिनी और रिंकी से करा देता था। पुलिस ने आरोपी से बिलौआ में नागेंद्र जैन के भाईयों से लूटी गई रकम में से 5 हजार रुपए जब्त कर लिए हैं।

बिलौआ थाना क्षेत्र के रहने वाले कपड़ा व्यापारी नागेन्द्र जैन ने दिसंबर 2020 में अपने दोनों छोटे भाइयों दीपक और सुमित की शादी उज्जैन की रहने वाली नंदनी मित्तल व रिंकी मित्तल से कराई थी। शादी की बातचीत इंदौर के रहने वाले बाबूलाल जैन के जरिए हुई थी। नंदनी व रिंकी के भाई ने दोनों बहनों का रिश्ता तय किया था। शादी के 15-20 दिन बाद रिंकी व नंदिनी ससुराल से मायके चली गईंं और 9 जनवरी को भाइयों के साथ वापस लौटीं थीं।

कुछ दिन बाद दोनों अपने मायके चली गईं और कई बार बुलाने के बाद भी नहीं लौटीं। रिंकी और नंदिनी के काफी दिनों तक वापस न लौटने पर घर वालों को शक हुआ तो उन्होंने घर की तलाशी ली। घर से 8 लाख रुपए के जेवरात व सात लाख रुपए नकद गायब थे। इस मामले में पुलिस ने नंदिनी, रिंकी और बाबूलाल के साथ ही युवती के भाई की भूमिका निभाने वाले संदीप को पकड़ा था।

करीब दस दिन पहले नंदिनी और रिंकी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था वहीं अक्ष्य और बाबूलाल भी जेल में हैं। 3 दिसंबर को संदीप को पुलिस ने उज्जैन से गिरफ़्तार किया था। पुलिस रिमांड पर संदीप ने बताया कि करोबारी परिवारों के लड़के तलाशने से लेकर उनको फंसाने का काम करता था। इसने इंदौर, उज्जैन और ग्वालियर में वारदात करना कुबूल किया है। उससे एक सोने की अंगूठी, एक पायल तथा 5 हजार नगद रुपए बरामद किए गए हैं। इसके साथ ही संदीप ने बताया कि रिंकी और नंदनी ने उज्जैन में कुछ लोगों पर दुष्कर्म के मामले भी दर्ज कराए हैं।

खबरें और भी हैं...