पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना:सर्दी-खांसी के इलाज केे लिए अस्पताल पहुंचा न्यायालय का भृत्य, रैपिड किट से की जांच तो निकला संक्रमित

डबरा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डबरा और भितरवार में रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से शुरु हुई प्रसूताओं की जांच, भास्कर ने उठाया था मु्ददा

रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से जांच शुरू होने के बाद फिर से कोरोना संक्रमित निकलने लगे हैं। बुधवार को भितरवार के न्यायालय के भृत्य की सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से जांच की गई तो वह संक्रमित निकला, जिसके चलते उसे इलाज के लिए ग्वालियर भेज दिया गया।

दरअसल फीवर क्लीनिकों पर कोरोना संक्रमण की जांच के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट किट भेज दी गई है। लेकिन इनसे जांच नहीं की जा रही थी। साथ ही अस्पतालों में भर्ती करने से पहले प्रसूताओं का भी कोविड टेस्ट नहीं किया जा रहा था। जिससे संक्रमण फैलने को अंदेशा बना हुआ था। इस मुद्दे को दैनिक भास्कर ने अपने समाचार पत्र में प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसे संज्ञान में लेकर भितरवार में फीवर क्लीनिक और मेटरनिटी वार्ड में प्रसूताओं की जांच रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से होना शुरू हो गई है। बुधवार को जांच के दौरान न्यायालय का भृत्य पॉजिटिव निकला है। वहीं बुधवार को किट से 65 जांचे की गई।

वहीं डबरा सिविल अस्पताल में मंगलवार को किट से 12 प्रसूताओं की जांच की गई, जिनकी सभी की रिपोर्ट निगेटिव निकली। सोमवार को एक प्रसूता की डिलीवरी के बाद जांच करने पर वह संक्रमित पाई गई थी, जिसे वार्ड में अन्य प्रसूताओं के साथ ही रखा गया था, हालांकि बाद में संक्रमित महिला को होम आईसोलेट कर दिया गया था। लेकिन अन्य प्रसूता महिलाओं की संदेह के आधार पर जांच कराई गई, जो निगेटिव आई।

खबरें और भी हैं...