पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों को उन्न्त तकनीक का दिया प्रशिक्षण:डॉ. सिंह बोले- जैविक खाद से खेती में होता है ज्यादा फायदा

डबरा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फसलों में लगातार राशासनिक उर्वरकों से उपयोग से खेतों की उर्वरा शक्ति खोती जा रही है। इसलिए इनकी जगह पर जैविक खाद का उपयोग करना चाहिए। इसके जरिए भी हम उतना भी उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं। तरल जैव उर्वरक के उपयोग से उत्पादन क्षमता भी बढ़ाई जा सकती है। यह बात रविवार को कृषि वैज्ञानिक डॉ.एसके सिंह ने प्रशिक्षण देते हुए किसानों से कही।

कृषि विज्ञान केंद्र दतिया एवं एफपीओ-जीसीपीसीएल द्वारा पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है, जिसका समापन रविवार को किया गया। इस वेबीनार में डबरा, भितरवार, दतिया, ग्वालियर, भिंड, मुरैना के अलावा प्रदेश के 500 से अधिक किसान शामिल हुए। इस दौरान कृषि वैज्ञानिक प्रशांत कुमार गुप्ता ने फलदार वृक्ष लगाने से पूर्व गड्ढे बनाने तथा भरने की संपूर्ण तकनीकी जानकारी प्रदान की साथ ही अधिक उत्पादन देने वाली समस्त फल वृक्षों की किस्मों के बारे में बताया। वहीं वैज्ञानिक डॉ. रूपेश जैन ने कड़कनाथ मुर्गी पालन की संभावनाओं तथा मुर्गी पालन से होने वाले लाभ के बारे में बताया।

खबरें और भी हैं...