पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक ही दिन में निकले 61 संक्रमित:हर घर में खांसी-जुकाम-बुखार का मरीज होने पर भी छुपाया दो मौतों के बाद चेते,

भितरवार4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ईटमा गांव में मंगलवार को कोरोना की जांच कराने के लिए ग्रमीणों की लाइन सुबह से दोपहर तक ऐसी ही लगी रही। - Dainik Bhaskar
ईटमा गांव में मंगलवार को कोरोना की जांच कराने के लिए ग्रमीणों की लाइन सुबह से दोपहर तक ऐसी ही लगी रही।
  • भितवार ब्लॉक के ईटमा गांव में 250 की रेपिड एंटीजन किट से जांच, 200 से ज्यादा अब भी बीमार

ग्वालियर जिले के भितरवार ब्लॉक के ईटमा गांव में दो लोगों (एक की काेराेना से और दूसरी माैत संदिग्ध)की मौत के बाद एक ही दिन में ढाई सौ लोगों की कोरोना की जांच कराई गई। इसमें 61 लोग संक्रमित मिले हैं। इतने सारे लोगों के संक्रमित मिलने के बाद प्रशासन ने पूरा गांव सील कर दिया है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में 23 अप्रैल को 40 साल का जितेंद्र रावत पुत्र गंर्धव सिंह कोरोना संक्रमित निकला था। इसके बाद उसकी पत्नी, मां और तीन बच्चे भी पॉजिटिव पाए गए थे। यह युवक घर में आइसोलेट होने के बजाए गांव और भितरवार में घूमता रहा। एक युवक ने सोमवार को कोरोना से दम तोड़ दिया। इसके बाद मंगलवार की सुबह गांव के और व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। हालांकि इस युवक की मौत किसी अन्य बीमारी से होना बताई जा रही है।

गांव के हर घर में पहले से कोई न कोई बीमार था लेकिन ग्रामीण अपनी बीमारी छुपाए थे। वे जांच कराने से डर रहे थे। जब मौत के बाद प्रशासन की टीम पहुंची तो उसी जितेंद्र ने गुहार लगाई कि साहब सभी की जांच करवा दो, यहां बहुत लोग बीमार हैं।

बुखार-जुकाम से पीड़ित थे, किल कोरोना की टीम गांव में पहुंची तो पूछने पर कह दिया- हम तो ठीक हैं

गांव में शिविर लगाकर मंगलवार को रेपिड एंटीजन किट से सैंपलिंग कराई गई तो हर घर में सर्दी-जुकाम और बुखार से पीड़ित लोग मिले। कई लोग तो सैंपलिंग को ही तैयार नहीं थे। किल कोरोना अभियान के तहत भी कुछ घरों में गांव में सर्वें किया गया था लेकिन लोग सर्दी जुकाम की बात नहीं बता रहे थे।

टीम से ज्यादातर लोगों ने यही कहा कि हमें कोई दिक्कत नही है। मर्ज छुपाने के बाद भी कुछ लोगों को दवा किट दी तो वह भी लेने से मना कर दी। महिला बाल विकास के परियोजना अधिकारी ने भी बताया कि गांव में लोग सर्वे के दौरान सहयोग नहीं करते हैं और सैंपलिंग के डर से सर्दी जुकाम होने की बात भी छिपा लेते हैं।

अब गांव में न तो कहीं से आवाजाही हो रही है। न लोग बाहर आ रहे हैं। इसके साथ ही प्रशासन की टीम लगातार गांव पर चौकसरी भी कर रही है ताकि संक्रमित लोग गांव से बाहर न निकल सकें। दूसरी ओर गांव के रास्तों को भी बंद कर कोटवार द्वारा लगातार चौकसी की जा रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें