पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यज्ञ शुरू:जीवन ही नहीं मृत्यु भी संवारती है भागवत कथा, मोक्ष प्राप्ति का है मार्ग: ज्ञानीभूषण

भितरवार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्राम ररुआपुरा में कलश यात्रा के साथ भागवत कथा व शांति कल्याण यज्ञ शुरू

चीनौर के ररुआपुरा में होने वाली श्रीमद्भागवत कथा एवं विश्व शांति कल्याण यज्ञ के लिए बुधवार को कलश यात्रा निकाली गई। कलश यात्रा के बाद श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ किया गया। कथा के पहले दिन कथा व्यास द्वारा श्रीमद् भागवत कथा के महत्व समझाया।

कथा व्यास पं. ज्ञानीभूषण शास्त्री ने भागवत कथा के महात्म्य का वर्णन सुनाते कहा कि भागवत कथा न केवल जीवन बल्कि मृत्यु भी संवारती है। भागवत कथा मृत्यु से अमरत्व की ओर ले जाने का मार्ग बतलाती है। मानव जीवन का लक्ष्य का ज्ञान कराती है। जब भी जहां भी अवसर मिले, इसे ध्यान पूर्वक सुनना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब तक मरना नहीं आता, तब तक जीवन जीना भी नहीं आता। हमें याद रखना चाहिए कि हमारे गले में भी कालरूपी मौत का सर्प पड़ा है।

मोह माया में हमें दिखाई नहीं देता। भागवत कथा हमें जगाती है। हमने अपना काल सुधार लिया तो कल संवरेगा। हर सुबह मौत का स्मरण करें और मौत को सुधारने वाले ग्रंथ भागवत महापुराण का श्रवण और प्रभु का स्मरण करें। इस दौरान बाबा प्रीतानंद, गुलाब सिंह परिहार, ओमप्रकाश, माधौसिंह, हाकिम सिंह, जशरथ सिंह सहित अन्य कई लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...