पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सर्व सुविधा के साथ गुणवत्तापूर्ण लैब:अस्पताल की लैब में अब 152 प्रकार की होंगी जांचें, डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को होगा फायदा

डबरा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लैब लगाने वाली कंपनी ने सीएमएचओ से मांगे जरूरी उपकरण। - Dainik Bhaskar
लैब लगाने वाली कंपनी ने सीएमएचओ से मांगे जरूरी उपकरण।
  • डबरा, भितरवार सहित सभी गांव के लोगों को नहीं जाना पड़ेगा प्राइवेट लैब

सिविल अस्पताल में सर्व सुविधा के साथ गुणवत्तापूर्ण लैब बनाई जाएगी। इसके लिए अलग से कक्ष स्थापित कर प्लेटफार्म निर्माण, पार्टीशन वॉल और अन्य निर्माण कार्य किए जाने हैं। इस लैब में कई अत्याधुनिक स्वचलित मशीनें भी लगाई जाएंगी, जिसके लिए नया कक्ष बनाया जाएगा। वर्तमान लैब में मौजूद सभी पुरानी मशीनरी को हटा दिया जाएगा। यह स्वास्थ्य केंद्रों पर भेजी जाएंगी। अस्पताल की लैब में अत्याधुनिक मशीनों से जांच होगी।

दरअसल शासकीय अस्पतालों में उच्च गुणवत्ता की पैथोलॉजी जांच की सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वेट लीज रिएजेंट रेंटल आधार पर 100 बिस्तरीय सिविल अस्पतालों में पैथोलॉजी लैब के संचालन के लिए निजी सेवा प्रदाता एजेंसी मै. साइंस हाउस प्राइवेट लिमिटेड भोपाल के साथ एक अनुबंध किया गया है। इसी अनुबंध के तहत शहर के सिविल अस्पताल में लैब बनाई जाएगी।

लैब में मशीनरी लगाए जाने को लेकर विगत महीने भोपाल से आई फर्म की टीम द्वारा निरीक्षण भी किया जा चुका है। इसके बाद अब फर्म द्वारा अस्पताल में जरुरी सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने को लेकर सीएमएचओ को पत्र भेजा गया है। ये सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने के बाद कंपनी द्वारा काम शुरु कर दिया जाएगा। नई लैब बनने से बाजार में होने वाली सभी जांचें अस्पताल में ही होंगी। इससे क्षेत्र के करीब 1.5 लाख से ज्यादा लोगों को लाभ मिलेगा।

लैब में काम करने वाले स्टाफ को देंगे प्रशिक्षण
पैथोलॉजी जांच की सुविधा उपलब्ध कराने वेट लीज रिएजेंट रेंटल आधार पर पैथालॉजी लैब के संचालन के लिए निजी एजेंसी से अनुबंध किया है। इसके लिए पूरा एक सॉफ्टवेयर भी तैयार होगा, जिससे राज्य एवं जिले स्तर के अधिकारी भी जांचों के संबंध में जानकारी ले सकेंगे। अस्पताल में पूर्ण स्वचालित मशीनें पैथालॉजी लैब में स्थापित की जाएगी।

जांच की मॉनिटरिंग हेतु लैब एमआईएस सेवा प्रदाता द्वारा तैयार कर उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे कि राज्य व जिला स्तर पर अधिकृत अधिकारियों द्वारा मोबाइल पर भी जांच संबंधित जानकारी देखी जा सकेगी। लैब में स्थापित नई मशीनों पर कार्य करने के लिए पुरानी लैब के स्टाफ को आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। पैथालॉजी जांच संबंधित समस्त कार्य विभागीय लैब टेक्नीशियन द्वारा संपादित किया जाएगा।

फर्म ने यह सुविधाएं उपलब्ध कराने लिखा है पत्र
फर्म के मुख्य महाप्रबंधक एचआर की ओर से सीएमएचओ को पत्र भेजकर कुछ सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने की बात कही। जिसमें 200 वर्गफीट का कक्ष, तीन फीट चौड़े और 15 फीट लंबे प्लेटफार्म बाशवेशिन के साथ, 50 से 80 वर्गफीट का सेंपल कलेक्शन, 50 से 80 फीट का स्टोर, बिजली कनेक्शन, 4 एयर कंडीशनर, 400 लीटर के दो फ्रिज, फर्नीचर आदि।

मनमानी पर लगेगी रोक
निजी एजेंसी के माध्यम से जब कार्य शुरू होगा तो जांचों की संख्या बढ़ जाएगी। गाइड लाइन के मुताबिक सिविल अस्पताल की लैब में 52 प्रकार की जांचें होनी चाहिए, लेकिन सिर्फ 40 ही हो रही है। नई व्यवस्था के तहत इनकी संख्या 152 तक हो जाएगी।

लैब लगाने वाली फर्म ने व्यवस्थाएं करने पत्र भेजा
^सिविल अस्पताल डबरा में लैब के फर्म द्वारा कुछ व्यवस्थाएं करने के लिए पत्र भेजा गया है। परिसर में नई इमारत बनाए जाने का काम चल रहा है, इसी में नई लैब के लिए जगह चिन्हित कर व्यवस्थाएं की जाएंगी।
डॉ. मनीष शर्मा, सीएमएचओ, ग्वालियर

खबरें और भी हैं...