स्वच्छता सर्वेक्षण:ट्रेंचिंग ग्राउंड पर कचरे से प्लास्टिक की जा रही अलग

डबराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टंचिग ग्राउंड पर कचरे से अलग कर रखी गई प्लास्टिक। - Dainik Bhaskar
टंचिग ग्राउंड पर कचरे से अलग कर रखी गई प्लास्टिक।
  • स्वच्छता सर्वेक्षण में अब ज्यादा अंक लाने के लिए नपा ने शुरू किए प्रयास

पिछले सर्वेक्षण में रैकिंग सुधरने अब नगर पालिका नंबर-1 की रैंकिंग में आने पिछली कमियों को दूर करने में लगी है। इसके लिए नगर पालिका 2 हजार अंकों के लिए सर्विस लेवल प्रोग्रेस को दुरुस्त करने में जुटी है। इसके लिए डोर टू डोर कूड़ा व यूजर चार्ज कलेक्शन, दो बार साफ-सफाई, गीला-सूखा कचरा के अलग-अलग निस्तारण, एमआरएफ चालू कराने का प्रयास, गीला कचरा से कंपोस्ट बनाने और डंपिंग ग्राउंड पर प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की तैयारी की जा रही है।

मंगलवार को नपा सीएमओ महेश पुरोहित ने टंचिग ग्राउंड पर सेप्टिक के मल से बनाए जा रहे खाद प्लांट और अन्य तैयारियों का निरीक्षण कर सभी व्यवस्थाओं को एक सप्ताह में पूरा करने के निर्देश दिए। स्वच्छ सर्वेक्षण जनवरी 2022 में होना है। तारीख का ऐलान होना अभी बाकी है। इसमें नगर पालिका की ओर से नगर वासियों को दी जा रही स्वच्छता सुविधाओं की परीक्षा होगी।

इसके लिए शासन की ओर से सर्वेक्षण की चार श्रेणी बनाकर छह हजार अंक निर्धारित किए जाते हैं। जिसमें डायरेक्ट आब्जर्वेशन, सिटीजन फीडबैक, सर्विस लेवल प्रोग्रेस व सर्टिफिकेशन शामिल है। प्रत्येक श्रेणी के लिए 1500 पूर्णांक दिए जाते हैं। वर्ष 2020 के स्वच्छ सर्वेक्षण में सर्विस लेवल प्रोग्रेस व सिटीजन फीडबैक में कम अंक मिलने के कारण रैंकिंग लुढ़क गई थी।

वर्ष 2021 में वेस्ट जोन के 132 शहरों में नगर पालिका 26 वें नंबर पर थी। पिछली बार सर्विस लेवल प्रोग्रेस के पूरे अंक कट गए थे। जिसके चलते नगर पालिका इस बार अब इसी पर फोकस कर रही है। नपा ने टंचिग ग्राउंड पर सेप्टिक के मल से खाद बनाना शुरु कर दी है।

खबरें और भी हैं...