पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धांधली का आरोप:जिस ठेकेदार ने पहले बनाई घटिया सड़क, उसे ही दोबारा दे दिया रोड बनाने का ठेका

डबरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चार साल पहले बनी पुराना गाड़ी अड्डा रोड जो घटिया निर्माण के चलते जर्जर हालत में पहुंच गई है। - Dainik Bhaskar
चार साल पहले बनी पुराना गाड़ी अड्डा रोड जो घटिया निर्माण के चलते जर्जर हालत में पहुंच गई है।
  • शहर में चार साल पहले 2.19 करोड़ की लागत से बनाई गई सभी मुख्य सड़कें जर्जर
  • नगरपालिका में अधिकारियों और ठेकेदारों की सांठगांव के चलते दिए जा रहे ठेके
  • सड़कों के घटिया निमार्ण के चलते एसडीएम ने डंपर भी किया था राजसात

चार साल पहले जिस ठेकेदार द्वारा बनाई गई सड़कों का काम घटिया निकला, नगरपालिका द्वारा फिर से बनाने का काम उसी कंपनी को दे दिया गया है। खास बात यह है कि इस बार भी ठेका कंपनी द्वारा गुणवत्ताहीन काम ही किया गया है, डामर डालने से पहले न तो बेस तैयार किया गया है, जिसकी वजह से यह अभी से उखड़ना शुरु हो गया है। यही नहीं ठेका कंपनी के घटिया काम के चलते तत्कालीन एसडीएम द्वारा एक डंपर का राजसात करने की कार्रवाई भी की थी। लेकिन बावजूद इसके नगरपालिका अधिकारियों द्वारा ठेका दे दिया।

दरअसल शहर में विगत चार साल पहले नगरपालिका द्वारा मुख्यमंत्री अद्योसंचरना के ठाकुर बाबा रोड, शिवकॉलोनी, पुराना गाड़ी अडउा रोड, ओवर के नीचे, बुजुर्ग् रोड का 2.19 करोड़ की लागत से निर्माण कराया गया था। जिसका काम शोभा एंड कंपनी को दिया गया था । लेकिन रोड के निर्माण के दौरान लोगों की शिकायत के चलते तत्कालीन एसडीएम पंकज जैन द्वारा इसकी जांच कर तो गुणवत्ता काफी खराब निकली थी। जिसके चलते उन्होंने ठेका कंपनी का एक डंपर भी राजसात कर किया था। कंपनी द्वारा इतना घटिया काम किए जाने के बाद भी नगरपालिका द्वारा फिर से करीब 35 लाख की लागत की वाचनालक रोड के निर्माण कार्य दे दिया है ।

घटिया निर्माण: एक साल में ही खराब हो गई शहर की मुख्य सड़कें
शहर में ठाकुर बाबा रोड, बुजुर्ग रोड, पुराना गाड़ी अडडा रोड, ओवर ब्रिज के नीचे आदि मुख्य सड़कें है। इन रोड़ों पर ही सबसे ज्यादा लोगों का आवागमन होता और बाजार भी यहीं है। लेकिन यह सभी सड़कें बनने के एक साल बाद ही खराब हो गई थी, डामर उखड़ने के चलते गडडे होना शुरु हो गए है। वर्तमान में ठाकुर बाबा रोड और पुराना गाड़ी अडडा रोड की हालत यह है कि डामर ही नहीं बचा है।

जिसकी वजह से उड़ती धूल के कारण स्थानीय लोग और दुकानदार खासी परेशान है । खास बात यह है कि इस बार भी कंपनी द्वारा घटिया निर्माण कार्य ही किया गया है, जिसकी शिकायत भी स्थानीय लोगों द्वारा कई बार की जा चुकी है। बनने के कुछ दिनों में ही उखड़ना शुरु हो गई है। ऐसे में इस रोड पर वाहन चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

लापरवाही: जांच में निकली घटिया, फिर भी नहीं कराया मेंटेनेंस
ठेका कंपनी द्वारा नगरपालिका अधिकारियों की सांठगांठ के चलते रोड का घटिया निर्माण कराया जा रहा था, जिसकी शिकायत लोगों ने अधिकारियों से की थी, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद शिकायत मिलने पर तत्कालीन एसडीएम पंकज जैन द्वारा जब इंजीनियरों से जांच करवाई गई तो न तो परतें सही डाली गई थी और डामर भी कम मिलाया गया था।

रोड के सैंपल भी प्रयोगशाला में जांच में फेल हो गए थे। जिसके चलते एसडीएम द्वारा कंपनी का एक डंपर राजसात कर दिया था। हालांकि बाद में एसडीएम के चले जाने के बाद मामला रफा दफा हो गया था। खास बात यह है कि कंपनी द्वारा चार साल में एक भी बार मेंटेनेंस तक नहीं किया गया, जबकि सड़कें पांच साल की गारंटी पीरियड में हैं।

35 लाख की सड़क का फिर घटिया निर्माण
सड़को का निर्माण करने वाली कंपनी के इस तरह का काम किए जाने के बाद नगरपालिका द्वारा फिर से उसी कंपनी को करीब 35 लाख की सड़क और नाला निर्माण का कार्य का ठेका दे दिया गया। बताया जाता है कि कंपनी कर्मचारियों ने डामर डालने से पहले गडढों में गिटटी भर दी गई, लेकिन उसका बेस तैयार नहीं किया गया। जिसकी वजह से अभी से डामर उखड़ना शुरु हो गया है।

ऐसे में यहां से निकलने वालों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यहां रहने वाले लोगों ने भी इसकी शिकायत नपा के अिधकारियों से की गई थी, लेकिन नगरपालिका का कोई भी अधिकारी जांच करने तक नहीं पहुंचा। वहीं इस रोड पर जो नाले का निर्माण कराया गया है उसकी भी जरुरत नहीं थी, क्योकि जिस नाला को तोड़ा गया है वह अच्छी खासी कंडीशन में था इससे अब यहां परेशानी पैदा हो जाएगी।

रोड निर्माण की जांच कराई जाएगी
^निर्माण कार्य के दौरान इंजीनियरों को इसकी मॉनीटरिंग की जानी चाहिए। यदि रोड सही तरह से नहीं डाली गई है तो इसकी जांच कराएंगे और घटिया निर्माण मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
प्रदीप कुमार शर्मा, एसडीएम, डबरा

खबरें और भी हैं...