दो घंटे में निकले 100 से अधिक वाहन:चेक पोस्ट पर कर्मचारियों ने न आने वालों को टोका न जाने वालों को

डबरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाहर से आने वाले लोगों की कोरोना संबंधित हिस्ट्री जांचने के लिए बनाए चेक पोस्ट से निकलते वाहन। - Dainik Bhaskar
बाहर से आने वाले लोगों की कोरोना संबंधित हिस्ट्री जांचने के लिए बनाए चेक पोस्ट से निकलते वाहन।
  • चेक पोस्ट पर 18 लोगों की ड्यूटी, शामियाने सहित अन्य खर्चा भी, लेकिन बे-रोकटोक निकल रहे वाहन

कोरोना संक्रमण की बढ़ती चैन को रोकने के लिए प्रशासन के पास कोई ठोस कार्ययोजना नहीं है। बाहरी लोगों की शहर में आवाजाही की जानकारी रखने के लिए प्रशासन द्वारा डबरा और भितरवार में चेक पोस्ट बनाए गए हैं लेकिन यह चेक पोस्ट दिखावे के लिए हैं। किसी भी चेक पोस्ट पर किसी भी आने-जाने वाले वाले को रोका-टोका नहीं जा रहा है। चेक पोस्ट पर लगाए गए कर्मचारी दिनभर आराम फरमाते हैं। शहर के चांदपुर पर फीवर क्लीनिक चेक पोस्ट बनाया है। यहां तीन पुलिसकर्मी, दो पटवारी और एक स्वास्थ्य कर्मचारी की ड्यूटी लगाई है। तीन शिफ्टों में 18 कर्मचारी ड्यूटी करते हैं। चैक पोस्ट बनाने के पीछे प्रशासन का उद्देश्य था कि बाहरी राज्य और जिले से शहर में आने जाने वालों की जानकारी रखी जाए ताकि ऐसे लोगों को जांच के बाद क्वारेंटाइन किया जा सके। चेकपोस्ट पर ड्यूटी के नाम पर कर्मचारी आराम फरमा रहे हैं।

चेक पोस्ट से गुजरने वालों की जानकारी जुटाने रखा स्टाफ लेकिन रजिस्टर में दर्ज नहीं हो रही जानकारी

गुरुवार को दोपहर 1.30 बजे दैनिक भास्कर टीम चेक पोस्ट पर पहुंची। टीम के सामने दो घंटे में 100 से अधिक चार पहिया वाहन, कार, बाइक, साइकिल और कई पैदल लोग शहरी सीमा में आए लेकिन चेक पोस्ट पर नियुक्त पुलिसकर्मियों और पटवारियों ने किसी भी वाहन चालक को टोका तक नहीं और लोग चेक पोस्ट से बिना किसी पूछताछ के निकल गए।

कुछ पुलिसकर्मी गेट के बाहर खड़े हुए थे, जबकि कुछ चेक पोस्ट के अंदर थे। जानकारी के अनुसार यहां पर दिन में छह लोगों की ड्यूटी थी जिसमें तीन पुलिसकर्मी और एक पटवारी मौजूद था। मौके पर मौजूद पटवारी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग का कर्मचारी और एक पटवारी किसी काम से गया है। वहां रजिस्टर में भी महज दो लोगों की ही जानकारी दर्ज थी। इस तरह चेकपोस्ट पर कोई पूछताछ नहीं हो रही।

खबरें और भी हैं...