पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

त्योहार:घरों में पढ़ी नमाज, गले मिलने के बजाय दूर से ही दी ईद की मुबारकवाद ताकि बनी रहे सोशल डिस्टेंस

सेंवढ़ाएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सेंवढ़ा में बाजार में भ्रमण करती पुलिस।
  • पुलिस बाजार और मस्जिदों के बाहर लगाती रही चक्कर, लोगों से की शांति बनाए रखने की अपील
  • कोरोना महामारी के कारण घरों में ही ईद मनाने के थे निर्देश
Advertisement
Advertisement

शनिवार को बकरीद का पर्व कोरोना महामारी के कारण अल्पसंख्यकों ने घर पर रहकर ही मनाया। सुबह 8 से 9 बजे तक घर पर ही नमाज पढ़ी। फिर सोशल डिस्टेंस का पालन करने दूर से ही अभिवादन कर ईद की मुबारक वाद दी। मस्जिदों पर 5 से 10 लोग ही नमाज पढ़ने के लिए पहुंचे थे। वहीं सुरक्षा व्यवस्था और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौड़ खुद पैदल और वाहन से शहर के बाजार में भ्रमण करते रहे।

मस्जिदों पर तैनात पुलिस अधिकारी, कर्मचारियों से मिले और हालातों की जानकारी ली। इसके अलावा बांकी थानों की पुलिस भी अपने क्षेत्र में लगातार भ्रमण करती रही। वहीं भांडेर, सेंवढ़ा, इंदरगढ़ में भी बकरीद शांति व सौहार्द के साथ मनाई गई। भांडेर में 11 मस्जिदों में हुई नमाज अता की गई। ईद की नमाज कोविड 19 के दिशा निर्देश अनुरूप 5-5 लोगों द्वारा अता की गई। मुख्य नमाज ईदगाह पर सुबह 8 बजे शहर काजी एहतसाम उद्दीन की मौजूदगी में हुई। जिसमें एडवोकेट जाहिद उददीन सिददीकी, नासिर बख्स मंसूरी, सवा उददीन, जब्बार सुपर ने नमाज अता की। एवं कोरोना महामारी के संक्रमण को देश से समाप्त करने के लिए दुआएं मांगी।

ईद के इस मुबारक मौके पर लोगों ने भी सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए एक दूसरे को ईद की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। हजारी मोहल्ला की जामा मस्जिद पर पेश इमाम हाफिज अताउल्ला ने नमाज अता कराई। इसके अलावा गांधी चौक में स्थित मस्जिद गुदड़ी, काजीपाठा स्थित मस्जिद, मस्जिद सरांय, मदीना मस्जिद, गेट वाली मस्जिद, तालाब वाली मस्जिद, नूरानी मस्जिद, बस स्टैण्ड स्थित मस्जिद दुलारी, मस्जिद काली पर इन सभी मस्जिदों मे सुबह 8 बजे से साढे नौ बजे तक पांच पांच लोगों के द्वारा नमाज अता की गयी। इसके साथ ही देर शाम तक कुर्बानियों का सिलसिला जारी रहा।

सेंवढ़ा में 8 जगह पर पांच-पांच लोगों ने पढ़ी नमाज, ईद की मुबारकबाद देने वाले भी घरों पर पहुंचे

नगरीय क्षेत्र सेंवढ़ा में शनिवार को ईद का पर्व उल्लास के साथ मनाया गया। यह कोरोना काल में दूसरा अवसर रहा जब ईदगाह से लेकर अन्य किसी भी मस्जिद में सामूहिक नमाज अता नहीं हुई। शासन की गाइड लाइन के अनुसार किले के पास ईदगाह, पुरानी ईदगाह सहित 6 मस्जिदों पर 5-5 लोगों ने नमाज अता की। हर मस्जिद पर प्रशासन के अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे। इसके अलावा लगभग सभी लोगों ने घर पर परिवार के साथ ईद की नमाज अता की। चूंकि इस बार सामूहिक नमाज नहीं होनी थी इसलिए समय को लेकर भी भिन्नता रही। नमाज सुबह 7 बजे से 9 बजे के बीच अलग-अलग समय पर लोगों ने नमाज पढ़ी।

अल्लाह से अमन चैन की दुआ मांगी। सामूहिक नमाज नहीं होने के कारण ईद की मुबारकबाद देने के लिए जो लोग ईदगाह पर एकत्रित होते थे, वह भी लोगों के घर ही पहुंचे और ईद की मुबारकबाद दी। कई लोगों ने परिवार के साथ नमाज अता करती अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर डालकर लोगों को बधाई दी तथा अमन चेन की दुआ मांगी। यहां बता दें कि अभी तक नगर में ईदगाह एवं तकिया एवं खलीफा मस्जिद पर नमाज अता होती थी। पर इस बार परंपरा बदल कर नगर में मौजूद सभी मस्जिदों पर केवल 5-5 लोगों ने नमाज पड़ी।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज रिश्तेदारों या पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा होगी। आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। कहीं फंसा हुआ पैसा भी आज मिलने की संभावना है। इसलिए उसे वसूल...

और पढ़ें

Advertisement