पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना काल में त्योहार:जिले की 32 मस्जिदों में 1085 लोगों ने पढ़ी नमाज, 12540 रुपए का चंदा इकट्‌ठा हुआ

दतिया13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ईदगाह पर मुस्लिम समाज के लोगों को मुबारक बाद देते वरिष्ठ भाजपा नेता अवधेश नायक। - Dainik Bhaskar
ईदगाह पर मुस्लिम समाज के लोगों को मुबारक बाद देते वरिष्ठ भाजपा नेता अवधेश नायक।
  • जिले में धूमधाम से मनाई गई ईद उल अजहा, गले मिलकर दी मुबारकबाद

जिले में ईद उल फितर पर्व धूमधाम से मनाया गया। खास बात यह रही कि डेढ़ साल में पहला मौका है जब ईद की नमाज मस्जिदों में पढ़ी गई। काजियों ने नमाज अता कराई। नमाज पढ़ने के बाद मुस्लिम समाज के लोग बाहर निकले और वहां बने अपने पूर्वजों के मकबरों को याद करते हुए अगर बस्ती लगाई और पुष्प भी चढ़ाए। जिले में 32 मस्जिदों पर 1085 लोगों ने नमाज पढ़ी। साथ ही इस दौरान 12 हजार 540 रुपए का चंदा एकत्रित हुआ।

बता दें कि कोरोना महामारी की दस्तक मार्च 2020 से शुरू हो गई थी। 24 मार्च 20 को पहली बार भारत सरकार ने लॉकडाउन लगाया तो न केवल मंदिरों बल्कि मस्जिदों पर भी ताले डल गए थे। केवल पूजा पाठ के लिए ही मंदिरों और मस्जिदों में पांच लोगों को नमाज पढ़ने की अनुमति थी। इस साल कोरोना महामारी का असर बकरीद से एक महीने पहले खत्म हुआ तो ढिलाई शुरू हो गई। मुस्लिम समाज के लोग ईद उल अजहा की नमाज ईदगाह में पढ़ने की अनुमति के लिए रविवार को गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के पास पहुंचे। डॉ. मिश्रा ने जिला प्रशासन को मस्जिदों में व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए थे। बुधवार काे शहर में मुख्य नमाज ईदगाह की बड़ी मस्जिद पर पड़ी गई। यहां शहर काजी ने मस्जिद अता कराई। इसके अलावा पुलिस लाइन मस्जिद में भी सैकड़ों मुस्लिम समाज के लोग एकत्रित हुए और नमाज पढ़ने के बाद सुख शांति की कामना की।

ग्रामीण अंचल की मस्जिदों पर कम भीड़

ईद उल अजहा की नमाज पढ़ने के लिए भले ही मस्जिदों को खोल दिया गया हो लेकिन शहरी मस्जिदों को छोड़ बांकी अन्य मस्जिदों पर भीड़भाड़ नहीं रहीं। कहीं 10 तो कहीं 20 लोग ही मस्जिदों पर नमाज पढ़ने पहुंचे। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पुलिस रिकार्ड में जिले की 32 मस्जिदों पर 1085 ही नमाज पढ़ने पहुंचे और 12 हजार 540 रुपए का चंदा एकत्रित हुआ। कोरोना महामारी के कारण न केवल मस्जिदों में भीड़ कम रही बल्कि चंदा भी कम एकत्रित हुआ। ईद के पर्व से पहले सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जिले के सभी थानों में मुस्लिम समाज के लोगों के साथ पुलिस ने शांति समिति की बैठकें कीं। कलेक्टर संजय कुमार और एसपी अमन सिंह राठौड़ ने जिला मुख्यालय पर मुस्लिम समाज के लोगों के साथ बैठक की थी। मंगलवार शाम को सभी जगह फ्लैग मार्च भी निकाले गए थे।

शहर में मुख्य नमाज ईदगाह की बड़ी मस्जिद पर पढ़ी गई। इसके अलावा साहनी मोहल्ला, पुलिस लाइन मस्जिद, गंजी हनुमान मंदिर के पीछे, ग्राम निचरौली में, भांडेर में सरसई रोड स्थित ईदगाह, भांडेर ईदगाह, उनाव, सेंवढ़ा, इंदरगढ़, बसई समेत जिले की 32 मस्जिदों पर दो साल में पहली बार ईद की नमाज पढ़ी गई। नमाज सुबह साढ़े छह बजे से सुबह पौने नौ बजे के बीच पढ़ी गई। ईदगाह मस्जिद पर अवधेश नायक मित्र मंडल द्वारा मुस्लिम भाईयों को गले मिलकर ईद की मुबारक बाद दी।

भांडेर में सरसई रोड स्थित मस्जिद पर पूर्व नगर परिषद अध्यक्ष बल्ले रावत ने मुस्लिम समाज के लोगों को ईद की मुबारक बाद दी। वहीं अन्य मस्जिदों पर भी जनप्रतिनिधियों ने पहुंचकर ईद की मुबारक बाद दी। नमाज पढ़ने के बाद बकरे की कुर्बानी दी गई। सैकड़ों की संख्या में बकरों को कुर्बान किया गया।

खबरें और भी हैं...