पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सेना ने संभाली कमान:कोरोना के चिकित्सीय उपकरणों की मरम्मत करेगी सेना; झांसी की 631 ईएमई बटालियन के जवान पहुंचे अस्पताल

दतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के इलाज में चिकित्सीय उपकरणों की कमी न हो। इसकी जिम्मेदारी अब सेना के जवान संभालेंगे। झांंसी की 631 ईएमई बटालियन ने यह जिम्मेदारी संभाली हैं। सेना के जवान दो बार जिला चिकित्सालय व मेडिकल कॉलेज का दौरा कर चुके हैं। पल्स ऑक्सीमीटर, ईसीजी मशीन सहित अन्य खराब उपकरणों की जानकारी लेकर उन्हें मरम्मत के लिए ले गए। यहीं नहीं जिला अस्पताल में लगे अन्य उपकरणों की देखरेख भी सेना करेगी। ताकि किसी उपकरण के खराब होने पर उसकी मरम्मत में किसी प्रकार की परेशानी न हो।

बता दें कि कोरोना काल में पल्स ऑक्सीमीटर, ईसीजी मशीन, ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर, वेंटीलेटर आदि की भूमिका अहम है। मशीनों कभी भी खराब हो सकती है। कुछ मशीनें लंबे समय से खराब पड़ी है। सरकारी प्रक्रिया के कारण यह ठीक नहीं हो पा रही। अब जिला अस्पताल व मेडिकल कॉलेज की मशीनों की देखरेख की जिम्मेदारी सेना के जवान बगैर किसी प्रक्रिया के देखेंगे। भारतीय सेना की व्हाइट टाईगर डिवीजन झांसी में स्थित है।

इस डिवीजन की कमान जीओसी मेजर जनरल विपुल सिंघाल के पास है। इस डिवीजन के सारे अस्त्र-शस्त्र और उपकरणों को ठीक करने और रख रखाव की जिम्मेदारी 631 ईएमई बटालियन की है जो कि इस कोरोनाकाल में सैनिक अस्पतालों की देखरेख बखूबी निभा रही है। यही डिवीजन अब जिला अस्पताल व मेडिकल कॉलेज के उपकरणों की भी देखरेख करेगी।

खबरें और भी हैं...