कोरोना कम करने के लिए मैनेजमेंट:24 घंटे में बदला सैंपलिंग काे लेकर सीएमएचओ का अजीब आदेश, फीवर क्लीनिक पर जांच कराने वालों की संख्या घटी

दतिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दतिया स्थित जिला अस्पताल के कोविड जांच केंद्र पर गुरुवार सुबह 11 बजे कम दिखे लोग। - Dainik Bhaskar
दतिया स्थित जिला अस्पताल के कोविड जांच केंद्र पर गुरुवार सुबह 11 बजे कम दिखे लोग।
  • अब फीवर क्लीनिक प्रभारी पर फैसला लेंगे कि किसका सैंपल लेना है या किसका नहीं

केंद्र और प्रदेश सरकार भले ही कोरोना को हराने के लिए टेस्टिंग, ट्रेसिंग व ट्रीटमेंट पर जोर देने की बात कह रही हो, लेकिन स्थानीय स्वास्थ्य अमला तो सैंपल ही नहीं लेना चाह रहा ताकि कागजों में कोरोना के मरीज कम दिखें। सीएचएमओ डॉ. आरबी कुरेले का 27 अप्रैल का आदेश यही संकेत दे रहा था।

दैनिक भास्कर ने मुद्दे को प्रमुखता से उठाया तो 29 अप्रैल को आदेश संशोधित कर दिया गया। पहले फीवर क्लीनिक प्रभारियों पर 94 फीसदी ऑक्सीजन सेचुरेशन व शरीर का तापमान 37 डिग्री न होने पर सिर्फ खांसी, जुकाम पर कोरोना की जांच करने पर कार्रवाई की बात कही थी।

29 अप्रैल को संशोधित आदेश में प्रमुख बिंदु तो वही हैं, लेकिन खांसी, जुकाम पर जांच का निर्णय प्रभारियों के स्व विवेक पर छोड़ दिया गया है। सीएचएमओ के आदेश का असर दो दिन देखने को मिला। फीवर क्लीनिकों पर सैंपलों की संख्या घट गई। इसका असर यह हुआ कि पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी कम हो गई। स्वास्थ्य विभाग इस पर वाहवाही लूट रहा है जबकि भविष्य में कोरोना विस्फोट का संकेत है। बता दें कि जिले में कोरोना जांच को लेकर बढ़ रही जागरुकता के कारण सैंपलिंग की संख्या में इजाफा हो गया था, इसी के साथ मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही थी। संख्या पर नियंत्रण के लिए सीएचएमओ डॉ. कुरेले से एक आदेश जारी किया। इसका असर दूसरे ही दिन नजर आया।

सैंपलों की संख्या के साथ मरीजों की संख्या भी कम हो गई लेकिन निर्णय कोरोना फैलाने में आग का काम करने वाला था। दैनिक भास्कर ने मुद्दे को प्रमुखता के साथ उठाया। परिणाम गुरुवार को आदेश में आंशिक संशोधन कर दिया गया। बावजूद इसके हर व्यक्ति जांच करा सकें यह स्पष्ट नहीं किया गया।
इंदरगढ़, सेंवढ़ा में पहले 50 से ज्यादा सैंपल हाे रहे थे, अब संख्या 10 से नीचे

सीएमएचओ के आदेश के पहले सेंवढ़ा और इंदरगढ़ में 24 अप्रैल को रेपिड किट से 110 सैंपल हुए थे, जिसमें 30 पॉजिटिव आए थे। 25 अप्रैल को 80 सैंपल में से 27 और 26 अप्रैल को 61 सैंपल में से 28 लोग संक्रमित पाए गए थे। 27 अप्रैल को आदेश आने के बाद 27 को महज 3 सैंपल लिए गए, जिसमें 1 व्यक्ति पॉजिटिव निकला। 28 अप्रैल को भी 2 सैंपल हुए जिसमें एक व्यक्ति पॉजिटिव निकला।

29 अप्रैल को 6 सैंपल में एक भी पॉजीटिव नहीं निकला। इसी तरह की स्थिति आरटीपीसीआर सैंपल की है जो कि नगरीय क्षेत्र के साथ समूचे ग्रामीण अंचल से फील्ड वर्कर लाते हैं। पहले प्रतिदिन 200 से अधिक लिए जा रहे थे। आदेश आने के वक्त 27 अप्रैल को 72 सैंपल, 28 अप्रैल को 33 सैंपल हुए। यहां बता दें कि अब ऑक्सीजन सेचुरेशन, शरीर का तापमान और जिले के निवासी होने का प्रमाण ही अब दतिया जिले में कोविड जांच का आधार है।

खबरें और भी हैं...