पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जन्म महोत्सव:श्रद्धालुओं ने मुनिश्री प्रतीक सागर के 8 तरह के रसों से धोए चरण

दतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सोनागिर में क्रांतिवीर मुनिश्री प्रतीक सागर महाराज का रविवार को 40वां जन्म महोत्सव मनाया गया

दिगंबर जैन परंपरा के विख्यात गणाचार्य श्री पुष्पदंत सागर महाराज के सुयोग्य शिष्य क्रांतिवीर मुनिश्री प्रतीक सागर जी महाराज का रविवार को 40 वीं जन्म जयंती महोत्सव हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया। कार्यक्रम आचार्य पुष्पदंत सागर सभागृह हुआ।

महोत्सव का शुभारंभ संगीतकार अनुपमा जैन ग्वालियर द्वारा संगीतमय भक्ति गुरु पूजन से किया। भक्तों ने सुंदर थालों में जल, चंदन, अक्षत, पुष्प, नैवेद्य, दीप, धूप, फल आदि द्रव्य को भक्ति नृत्य करते हुए मुनि श्री प्रतीक सागर जी महाराज का पूजन किया तत्पश्चात दोपहर एक बजे से जन्मोत्सव का आयोजन प्रारंभ हुआ। नृत्य मंगलाचरण द्वारा ग्वालियर की बालिकाओं द्वारा सुंदर नृत्य की प्रस्तुति दी गई। आचार्यश्री पुष्पदंत सागर जी महाराज एवं आचार्यश्री विमल सागर जी महाराज के तैल चित्र का अनावरण किया गया। मुनिश्री प्रतीक सागर महाराज के 8 प्रकार के विभिन्न सामग्रियों से पादप्रक्षालन किया गया दूध, दही, केसर जल, सर्वोषधी, अनन्नास रस, अंगूर रस, मोसंबी रस, अनार रस चढ़ाए गए।

दुनिया व्यक्ति को नहीं उसके द्वारा किए गए कार्यों को याद रखती है: मुनिश्री
मुनि श्री ने कहा कि जन्म तो सभी प्राप्त करते हैं मगर जो जन्म को सार्थक कर ले वह दुनिया में हमेशा याद रखा जाते है। दुनिया व्यक्ति को याद नहीं रखती व्यक्ति के द्वारा किए गए कार्यों को याद रखती है। लोग कहते हैं देवता अमर है क्योंकि वह अमृत पीते हैं मगर जो दुनिया में हटकर के करता है और हट करके देता हैं वह भी दुनिया में अमर हो जाता है। अमर होने के लिए दो काम जरूर करें। पढ़ने लायक कुछ लिख दे या लिखने लायक कुछ कर जाए ।मुनि श्री ने आगे कहा कि परिवार और समाज में आज शांति और अमन समाप्त होता जा रहा है उसका कारण है कि प्रभु और गुरु के प्रति आस्था के भाव कमजोर पड़त जाना । जिस कारण दुख और दरिद्रता ने अपने पैर पसारना प्रारंभ कर दिया है।

महोत्सव में दूर-दूर से आए गुरुभक्त
जन्मोत्सव कार्यक्रम में करेरा, शिवपुरी, भिंड, दमोह, ग्वालियर, डबरा, नरवर आदि स्थानों से बड़ी संख्या में गुरु भक्तों ने शिरकत की। इस अवसर पर मुनिश्री प्रतीक सागर महाराज के सानिध्य में करोना वायरस रूपी महामारी की शांति के लिए 22 नवम्बर को होने वाली 108 मंडली के श्री भक्तामर महामंडल विधान के कूपन का लोकार्पण किया गया। सभा का संचालन ने महेंद्र जैन बंटी ने किया। संध्या कालीन सत्र में संगीतकार अनुपमा जैन ग्वालियर द्वारा भक्ति संध्या का आयोजन हुआ जिसमें गुरु भक्ति में सुंदर सुंदर गीत प्रस्तुत किए गए एवं 108 थानों द्वारा मुनि श्री की आरती उतारी गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें