पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिन का पारा 42.3 पर, कल से बारिश के आसार:वर्ष 2018 में जुलाई माह में अधिकतम 41 डिग्री तक पहुंचा था तापमान

दतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुधवार को 24 घंटे में अधिकतम तापमान मामूली चढ़ कर 42.3 डिग्री पर पहुंच गया। 5 साल में जुलाई माह में यह सबसे अधिक है। न्यूनतम तापमान मामूली गिरावट के साथ 28.2 डिग्री पर आया। मंगलवार को अधिकतम तापमान 41.8 डिग्री तथा न्यूनतम 28.2 डिग्री दर्ज किया गया था।

बुधवार रात भी 5 साल में सबसे अधिक गर्म रहीं। हालांकि मंगलवार की रात लोकल हीटिंग के कारण थोड़ी देर के लिए बारिश हुई। अखिल भारतीय केन्द्रीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान में 1 मिमी बारिश दर्ज की गई। रात में हुई बारिश व सुबह निकली धूप से उमस बढ़ गई। पंखों की हवा में भी लोग पसीने से सराबोर हो रहे थे। मौसम विभाग का अनुमान है कि 9 से अंचल में मानसून सक्रिय होगा। तभी बारिश के आसार बनेंगे।

5 साल में यह पहली बार है जब अधिकतम तापमान ने 42 डिग्री का आंकड़ा छू लिया। इससे पहले वर्ष 2018 में जुलाई माह में अधिकतम तापमान 9 तारीख को 41 डिग्री पर पहुंचा था। शेष वर्ष 2020 में 39 डिग्री, वर्ष 2019 में 40 डिग्री व‌र्ष 2017 में जुलाई माह में तापमान अधिकतम 37 डिग्री का ही आंकड़ा छू सका था। इस वर्ष जुलाई माह के पहले सप्ताह में 7 दिन में 6 दिन तापमान 40 डिग्री या इससे अधिक रहने से लोग गर्मी व उमस से परेशान हो रहे हैं। बता दें कि इन सात दिनों में जिले के कुछ स्थानों पर लोकल हीटिंग के कारण खंड बारिश हुई। जो खरीफ फसलों के लिए पर्याप्त नहीं है। बारिश न होने से किसान खेतों की नदाई गुड़ाई नहीं कर पा रहे हैं। जबकि खरीफ फसल की बुबाई के लिए 8 दिन का समय शेष हैं। कृषि वैज्ञानिक डॉ. आरकेएस तोमर के अनुसार खरीफ की फसल की बुबाई के लिए 15 जुलाई तक का समय सबसे अच्छा माना जाता हैं।

खबरें और भी हैं...