पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मामले को जांच में लिया:ट्रस्ट की संपत्ति से हुई आय खुर्दबुर्द की, पूर्व मंत्री ने बड़े भाई पर दर्ज कराया केस

दतिया15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूर्व गृह मंत्री महेंद्र बौद्ध ने बड़े भाई प्रीतम मित्रा पर दर्ज कराया प्रकरण

पूर्व गृह मंत्री महेंद्र बौद्ध ने अपने बड़े भाई एडवोकेट प्रीतम मित्रा के खिलाफ मंगलवार को दुरसड़ा थाने में धारा 406 (खुर्द बुर्द) के तहत प्रकरण दर्ज कराया है। छल्लापुरा निवासी पूर्व मंत्री महेंद्र बौद्ध पुत्र हरदास बौद्ध (न्यासी) ने दुरसड़ा थाने में आवेदन देकर बताया कि उनके पूर्वजों द्वारा पूना बाई पत्नी माधोदास उर्फ मदारी निवासी छल्लापुरा के नाम से एक ट्रस्ट का 16 अगस्त 1969 को गठन किया था। इस ट्रस्ट में हरदास, हरनारायण एवं रामस्वरूप को सदस्य बनाया गया था।

श्रीमती पूनाबाई के नाम ग्राम दुरसड़ा में 35.68 एकड़ जमीन थी, इसी के संबंध में ट्रस्ट गठित किया गया। उक्त ट्रस्ट में नियुक्त तीनों सदस्यों में, जो ज्येष्ठ व्यक्ति था, उसे ट्रस्ट के अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई थी तथा अन्य दो व्यक्ति हरनारायण व रामस्वरूप ट्रस्ट के सदस्य के रूप में शामिल किया। ट्रस्ट डील के अनुसार यह शर्त थी कि तीनों परिवारों में जो उस पीढ़ी का ज्येष्ठ व्यक्ति होगा, वही ट्रस्ट का अध्यक्ष होगा।

ट्रस्ट गठन के समय हरदास ज्येष्ठ होने से अपनी मृत्यु पर्यंत तक ट्रस्ट के प्रथम अध्यक्ष रहे तथा उनकी मृत्यु के पश्चात वरिष्ठता क्रम में हरनारायण होने से उन्हें ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया। हरनारायण की मृत्यु के बाद रामसेवक अध्यक्ष रहे। उनकी मृत्यु के बाद 31 अगस्त 1997 को ट्रस्ट के चौथे अध्यक्ष प्रीतम मित्रा बने। तब से प्रीतम मित्रा ही अध्यक्ष हैं।

ट्रस्ट की संपत्ति सिंचित कृषि आराजी है जिससे प्रति वर्ष लाखों रुपए की फसल पैदा होती है। उक्त फसल को प्रीतम मिश्रा द्वारा बेच कर उससे प्राप्त आय को उनके द्वारा खुर्द बुर्द कर स्वयं उपयोग की जाती है जिसका कोई भी हिसाब किताब ट्रस्ट के सदस्यों को नहीं दिया गया। शर्तों के अनुसार ट्रस्ट से होने वाली आए से समाज सुधार के कार्य एवं कमजोर वर्ग के व्यक्तियों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना, समाज के गरीब वर्ग के लिए महाविद्यालय स्थापना किया जाना चाहिए था। लेकिन प्रीतम मित्रा ने ट्रस्ट में वर्णित किसी कार्य को नहीं किया और ट्रस्ट की संपत्ति से होने वाली आए को व्यक्तिगत उपयोग में लिया। पुलिस ने एडवोकेट मित्रा पर प्रकरण दर्ज कर मामले को जांच में लिया है।

खबरें और भी हैं...