पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Datiya
  • Not Even A Grain Of Wheat Came To Be Sold At 70 Buying Centers Out Of 73, It Is Difficult To Reach Nainar Center Because The Way Is Inaccessible.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लेटलतीफी:73 में से 70 खरीद केंद्राें पर गेहूं का एक दाना भी बिकने नहीं आया, नाैनेर केंद्र पर पहुंचना ही मुश्किल क्योंकि रास्ता दुर्गम

दतिया13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • उदगुवां के नाैनेर में किसानों के लिए न बैठने की व्यवस्था थी न ही पीने के लिए पानी किसान अभी कटाई में व्यस्त हैं, सप्ताह भर बाद होगी मारामारी, किसानों को मैसेज भेजे लेकिन बेचने पहुंचे ही नहीं
  • अफसर बोले- केंद्रों पर सारी व्यवस्थाएं हो चुकी हैं, नौनेर की अव्यवस्था बताई तो बोले- जांच कराएंगे

जिले में गेहूं की खरीदी के लिए 73 केंद्र बनाए हैं। इनमें से ज्यादातर खरीद केंद्र इस सीजन में शुरू से सूने पड़े हैं। किसानों के पास मैसेज भेज दिए गए लेकिन किसान नहीं पहुंचे। जब से केंद्र शुरू हुए तब से रविवार तक 120 क्विंटल गेहूं और 50 किलो चना ही पहुंचा है। इसका मुख्य कारण यह है कि अभी फसलों की कटाई चल रही है। जबकि कुछ खरीदी केंद्रों पर ताला पड़ा है।

नौनेर गांव में बना सलैयापमार का खरीद केंद्र पहाड़ी के पीछे खेत में बना है। यहां जाने के लिए आसान रास्ता तक नहीं है। अगर बारिश हो गई तो गेहूं से भरे वाहन खेत में ही फंसकर रह जाएंगे। कुठौंदा के खरीदी केंद्र का पांचवें दिन सोमवार को भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेंद्र बुधौलिया ने उद्घाटन किया। जबकि पिपरौआकलां केंद्र पर ताला लगा था।
उदगुवां के नाैनेर में किसानों के लिए न बैठने की व्यवस्था थी न ही पीने के लिए पानी

उदगुवां के भास्कर संवाददाता वीरेंद्र सिंह यादव सलैयापमार के केंद्र को ढूंढ़ते हुए नौनेर में पहाड़ी के पीछे दुर्गम रास्तों से पहुंचे। केंद्र खेत के बीच में टेंट लगाकर बनाया है। यहां टेंट के अंदर चार कुर्सी डली हैं वह भी कम्प्यूटर ऑपरेटर और केंद्र के कर्मचारियों के लिए। किसान आए तो उन्हें धूप में बैठना होगा। पानी की भी व्यवस्था नहीं मिली।

अगर बारिश होती है तो फसल से भरे वाहन खेत में ही फंसकर रह जाएंगे। इस केंद्र पर ग्राम गरेरा, सलैयापमार, खमेरा समेत करीब दर्जन भर गांव के किसानों की फसल बिकना है। टीम उदगवां कृषि उपज मंडी केंद्र पर पहुंची तो यहां दो किसान ही फसल तुलवाते मिले। ग्राम नौनेर में जिगना सोसायटी और हतलई सोसायटी के केंद्रों पर एक किसान की फसल तुलती मिली।

इंदरगढ़ के खरीदी केंद्र का भाजपा जिलाध्यक्ष ने किया उद्घाटन

दोपहर 1 बजे कुठौंदा में बने सेवा सहकारी समिति इंदरगढ़ के खरीदी केंद्र पर भास्कर संवाददाता आदित्य सुरेंद्र दांतरे पहुंचे। यहां भाजपा जिलाध्यक्ष बुधौलिया उद्घाटन कर रहे थे। यहां एक भी किसान नहीं मिला। तैयारी पूरी थी। इसके बाद खड़ौआ में बने सेवा सहकारी समिति उचाड़ केंद्र पर भास्कर टीम पहुंची।

यहां खरीदी प्रभारी अतर सिंह कुशवाहा मौके पर मिले। लेकिन किसान नहीं थे। खरीद प्रभारी कुशवाहा ने बताया कि 25 किसानों के पास मैसेज भेजे गए हैं लेकिन किसान अभी कटाई में व्यस्त हैं। इसी गांव में एक और केंद्र सेवा सहकारी समिति खड़ौआ का बनाया गया है जहां सोमवार को दोपहर में तैयारियां करते हुए कर्मचारी मिले।

55 किसानों को भोपाल और केंद्र से मैसेज भेजे, फसल बेचने एक भी नहीं आया

सोमवार दोपहर 3 बजे सेंवढ़ा में बने भवानी मार्केटिंग सोसायटी के चना, सरसों, मसूर और गेहूं खरीदी केंद्र पर भास्कर संवाददाता रमाशंकर नगरिया पहुंचे। चना खरीदी केंद्र के प्रबंधक जगदीश दांतरे ने बताया कि उन्होंने अब तक 55 किसानों को भोपाल और केंद्र से मैसेज भेजे लेकिन एक भी किसान फसल बेचने नहीं आया। जबकि केंद्र पांच दिन से बना है। इसी के पास में बने गेहूं खरीदी केंद्र पर भी एक भी किसान नहीं था। मौके पर प्रबंधक राजू चौहान मिले, चौहान ने बताया कि 15 किसानों को मैसेज भेजे लेकिन किसान व्यस्त होने के कारण नहीं आए।
बसई खरीद केंद्र पर 443 क्विंटल और नयाखेड़ा पर 548 क्विंटल खरीदा गया

बसई के भास्कर संवाददाता विवेक शांडिल्य ढाई बजे बसई खरीदी केंद्र पर पहुंचे। यहां सोमवार से ही तुलाई शुरू हुई थी। पहले ही दिन यहां दोपहर ढाई बजे तक चार किसानों ने 443 क्विंटल गेहूं बेचा था। इसके बाद भास्कर टीम नयाखेड़ा केंद्र पर पहुंची। यहां दो अप्रैल से खरीदी चल रही थी और सोमवार को तीन बजे तक 548 क्विंटल 50 किलो गेहूं पांच किसानों का बिक चुका था।

धमना के 700 किसानों से 15 हजार क्विंटल गेहूं खरीदा जाना है, लेकिन एक भी नहीं आया

ढाई बजे पटेल वेयर हाउस-2ई पर बने सरसई खरीदी केंद्र पर दैनिक भास्कर संवाददाता शाहिद कुरैशी मौके पर जायजा लेने पहुंचे। यहां प्रबंधक नीलेश यादव और ऑपरेटर राजेश निरंजन मौजूद मिले। केंद्र पर बारदाने की पांच गठानें मिलीं। केंद्र के बाहर 50 किसानों के मैसेज की सूची चस्पा थी। पूछने पर प्रबंधक ने बताया कि मुरिया, सरसई और धमना के 700 किसानों से 15 हजार क्विंटल गेहूं खरीदा जाना है। किसान एक भी नहीं आया।

पटेल वेयर हाऊस पर ही बने पिपरौआकलां के खरीदी केंद्र का दफ्तर बंद था। यहां एक भी कर्मचारी मौजूद नहीं मिला। न तो केंद्र पर लेपटॉप अथवा कम्प्यूटर थे, न किसानों को मैसेज भेजने की सूची चस्पा थी। वेयर हाऊस मालिक रामनारायण पटेल ने बताया कि केंद्र प्रभारी आते हैं और चले जाते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें