पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Datiya
  • Panic After The Closure Of The Probe After The Bird Flu ... More Than 61 Birds Died In 15 Days, 50 Samples Sent From Poultry Farm Without Sending Back The Probe

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बर्ड फ्लू:बर्ड फ्लू के बाद जांच बंद हाेने से दहशत, 15 दिन में 61 से ज्यादा पक्षी मरे, पॉल्ट्री फार्म से भेजे 50 सैंपल बिना जांच वापस भेजे

दतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्टेडियम में आसमान से उड़ते वक्त गिरा कबूतर और चंद सैकंडों में हो गई मौत
  • झांसी विवाह वाटिका भांडेर में भी पक्षियों की मौत

बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद भी सैंपलाें की जांच न हाेने से लाेगाें में दहशत बढ़ती जा रही है। भोपाल की प्रयोगशाला में कौवों के चार सैंपल में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद सैंपल नहीं जांचे गए। जबकि जिले में पक्षियों की लगातार मौत हो रही है। अब तक जिले में अलग-अलग तरह के 61 पक्षियों की मौत हो चुकी है।

गुरुवार की ही सुबह दतिया शहर में दो कबूतर और भांडेर नगर में एक कौवा की मौत हुई। शहर के स्टेडियम में बच्चे, युवा और बुजुर्ग टहल रहे थे, तभी कबूतर जमीन पर गिरा। चंद सेकंड में ही उसकी मौत हो गई। इधर, जिले के पशुपालन विभाग का दावा है कि पाॅल्ट्री फार्म से पचास बीट के सैंपल जांच के लिए भोपाल प्रयोगशाला में भेजे लेकिन जांच किए बगैर वापस कर दिए गए। इससे लोगों में डर बना हुआ है।

जिले में बर्ड फ्लू से पहली मौत 6 जनवरी को हुई थी तब से एक दो दिन छोड़कर लगातार पक्षियों की मौत हुई। पहले दिन हाउसिंग बोर्ड में तीन कौआ मृत मिले थे। जबकि एक कोयल कलापुरम में मृत पड़ी थी। इन चारों मृत पक्षियों के सैंपल पशु पालन विभाग ने भोपाल जांच के लिए भेजे।

चार दिन बाद सैंपल रिपोर्ट प्राप्त होने पर पक्षियों की मौत बर्ड फ्लू से होना पाई गई। इसके बाद कलेक्टर संजय कुमार ने जिले के बाहर और अंदर मुर्गा मुर्गियों के परिवहन पर 25 जनवरी तक प्रतिबंध लगा दिया। साथ ही जहां मृत पक्षी मिलते हैं वहां सेनेटाइज कराने के आदेश भी दिए गए थे। लेकिन मृत पक्षियों के स्थान को एक भी जगह सेनेटाइज नहीं किया गया।

स्टेडियम में जैसे ही कबूतर गिरकर मरा, लोगों में फैली दहशत

बर्ड फ्लू की बीमारी पक्षियों से मानव में भी फैलने का खतरा रहता है। यह बीमारी जानलेवा भी है। गुरुवार को सुबह 8 बजे स्टेडियम ग्राउंड में लोगों की भीड़ थी तभी एक कबूतर आसमान में उड़ते वक्त नीचे जा गिरा और चंद सैंकंड में ही उसकी मौत हो गई। इससे स्टेडियम में अफरा तफरी हो गई। स्टेडियम के कर्मचारियों ने मृत कबूतर को स्टेडियम की सीढ़ियाें की पट्‌टी पर रखा और पशु पालन विभाग को सूचना दी।

एक और कबूतर इसी दिन सिविल लाइन रोड स्थित झांसी विवाह वाटिका के पास मृत पड़ा मिला। जबकि भांडेर के वार्ड क्रमांक एक सिकंदरपुर मोहल्ला स्थित लहार रोड शंकर जी के मंदिर के पास एक कौआ मृत मिला। वहीं सेंवढ़ा के वार्ड 2 हनुमान मंदिर के पास पशुचिकित्सा विभाग के कर्मचारी मनोज यादव को तीन मृत कौए मिले जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने उन्हें दी।

पशु पालन विभाग के पास 36-37 मृत पक्षियों की ही जानकारी

जिले में अब तक 61 पक्षियों की मौत हो चुकी है। इनमें 35 कौवों की मौत हो चुकी है। जबकि 14 कबूतर मर चुके हैं। इसके अलावा चिड़िया, बतख, कोयल भी मर रही हैं। लेकिन पशु पालन विभाग के पास मृत पक्षियों की संख्या 36-37 ही दर्ज है। जाहिर है पशुपालन विभाग गंभीर नहीं है।

पॉल्ट्री फार्मों पर भी निगरानी नहीं

जिले में करीब 50 बड़े पॉल्ट्री फार्म हैं। इनमें तीन पॉल्ट्री फार्म शहर के अंदर और शहर की सीमा से सटकर बने हैं। जहां हजारों मुर्गे मुर्गियां हैं। ग्रामीण इलाके में भी पोल्ट्री फार्म हैं। जब बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई तब चार-पांच दिन तक पॉल्ट्री फार्मों पर निगरानी की और निरीक्षण किया। लेकिन इसके बाद यह सब बंद कर दिया गया।

भोपाल में सैंपल लेना बंद कर दिए

जो पक्षी पॉजिटिव आए थे उसके बाद भोपाल में सैंपल लेना बंद कर दिए और वे कहीं के सैंपल नहीं ले रहे हैं। पोल्ट्री फार्म से कहीं से भी कोई सूचना नहीं आई है। न ही फाइव-जी नेटवर्क अथवा टावर पक्षियों की मौत की वजह हैं।

-डॉ. जी.दास, उप संचालक, पशु पालन विभाग, दतिया​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें