पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कलेक्टर को लिखा पत्र:धान के लिए नहरों में पानी छोड़ें : यादव

दतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के 90 प्रतिशत से अधिक रकबा में धान की फसल उगाई जाती है। पिछले कई वर्षों से लगातार कम बारिश और बिजली की कमी के कारण किसानों को घाटा उठाना पड़ रहा है। इसलिए 30 जून से पहले नहरों में पानी छोड़ा जाना चाहिए। यह मांग कांग्रेस नेता सेंवढ़ा जनपद उपाध्यक्ष प्रतिनिधि केशव यादव ने शुक्रवार को कलेक्टर को लिखे पत्र में की।

उन्होंने कहा कि पिछले 2 वर्षों से कोरोना महामारी के कारण वैसे ही किसान बहुत परेशान है। लगातार 2 वर्षों से प्रकृति की मार के कारण कर्ज तले दब गया है। यदि इस वर्ष भी यदि धान की फसल नहीं हो पाई तो किसान की हालत खराब हो जाएगी। इसलिए नहर में पानी आना बहुत आवश्यक हो गया है। साल 2019 में जब कांग्रेस सरकार थी तब सही समय पर नहर में पानी आ जाने से फसल बच गई थी। पिछली साल पानी अंत समय में दिया गया था। तब तक फसलें खराब हो चुकी थीं। इसलिए इस वर्ष 30 जून से पहले पानी नहर में आ जाएगा तो धान की फसल अच्छी हो जाएगी और किसान बर्बाद होने से बच जाएगा।

खबरें और भी हैं...