हकीकत / शहर में अब तक सिर्फ 75 प्रवासी आना बताए, गांवों में औसतन 30 मजदूर, रोज सैकड़ों आ रहे

So far, only 75 migrants have been reported in the city, on average 30 laborers in villages, hundreds are coming every day.
X
So far, only 75 migrants have been reported in the city, on average 30 laborers in villages, hundreds are coming every day.

  • प्रवासी मजदूरों की संख्या ही गलत जबकि इन्हीं आंकड़ों के आधार पर होगी रोजगार व इलाज की व्यवस्थाएं

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:56 AM IST

दतिया. लॉक डाउन लागू होने के बाद पिछले दो महीने से जिले में दूसरे राज्याें से रोज बड़ी संख्या में मजदूर आ रहे हैं, लेकिन जिला प्रशासन द्वारा इसकी जानकारी छिपाई जा रही है। सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो दतिया शहर में सिर्फ 75 लोगों का आना बताया गया है। इसी प्रकार सेंवढ़ा नगर में 287, भांडेर नगर में 209, बड़ौनी में 345 और इंदरगढ़ में 367 मजदूर दर्ज किए गए हैं जबकि हकीकत में सैकड़ों मजदूर रोज आ रहे हैं। हालांकि सर्वे में लापरवाही मिलने पर दतिया नपा के सीएमओ को हटा दिया गया है, लेकिन एक सच यह भी है कि ग्रामीण क्षेत्र में आए मजदूरों के आंकड़ों में भी गड़बड़ी है। कई गांवों में 500 से अधिक मजदूर आए हैं, लेकिन जिलेभर के 500 गांवों में कुल 15 हजार मजदूरों का आना ही बताया गया है।

इन आंकड़ों के आधार पर ही दिया जाएगा रोजगार: इन दिनों शासन प्रशासन का फोकस बाहर से आए इन मजदूरों पर है, लेकिन मजदूरों की संख्या ही सरकारी रिकॉर्ड में गलत है।  जिन प्रवासी मजदूरों की एंट्री कर उनकी स्क्रीनिंग, सैंपल टेस्ट, क्वारेंटाइन आदि के रिकाॅर्ड बनाए जा रहे हैं, उनमें भी काफी अंतर है। खास बात यह है कि यही रिकाॅर्ड ग्रामीण क्षेत्र में आए प्रवासी मजदूरों को काम देने का आधार बनेगा। इसके अलावा इलाज की व्यवस्थाएं भी होंगी। ऐसे में संख्या का अंतर आने वाले समय में परेशानी का कारण बनेगा

हॉट स्पॉट गुजरात व महाराष्ट्र से आए सबसे अधिक लोग
सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो सिर्फ गुजरात से ही 2500 लोग जिले में आए हैं। इसके बाद महाराष्ट्र का नंबर आता है। यहां से अब तक 1500 से अधिक लोग आ चुके हैं। यह दोनों वे राज्य हैं जहां कोरोना का संक्रमण सबसे अधिक है। इसके अलावा दिल्ली से भी एक हजार से अधिक लोग लौटे हैं। कोरोना हॉट स्पॉट वाले राज्यों से ज्यादातर मजदूर लौट रहे हैं, बड़ी संख्या में मजदूर सीधे घरों में पहुंच गए हैं, उनका रिकॉर्ड ही प्रशासन के पास नहीं हैं। इन लोगों में भी इन राज्यों से ही अधिक लोग आए होंगे। इसलिए जिले में भी संक्रमण का खतरा अधिक है।

नगरीय क्षेत्रों का आंकड़ा चौंकाने वाला... दतिया में सिर्फ 75 और सेंवढ़ा में 284 लोगों का आना बताया

जिला प्रशासन के आंकड़ों पर नजर डालें तो 20 मई की स्थिति में दतिया शहर में केवल 75 लोग ही बाहर से आना बताया गया है। यह आंकड़ा सबसे अधिक चौंकाने वाला है। प्रवासी मजदूरों के मामले में नोडल अधिकारी बनाए गए जिला पंचायत सीईओ बीएस जाटव का कहना है कि इसी गड़बड़ी के कारण दतिया सीएमओ अमजद गनी को हटा दिया गया है। वहीं सेंवढ़ा में सिर्फ 284 लोगों का आना बताया गया है जबकि सेंवढ़ा के वार्ड 1, 2, 3, 11 एवं 14 में ही 500 से अधिक बाहर से लौटे हैं। इनमें कई लोग 25-50 के समूह में आए हैं। सिविल अस्पताल में भी तीन हजार से अधिक की स्क्रीनिंग होने की जानकारी है। इसी प्रकार भांडेर, इंदरगढ़ और बड़ौनी के आंकड़ों में भी गड़बड़ी है।

गांवों का आंकड़ा भी गलत... कई गांव में आए 500 से अधिक लोग, जिले के 500 गांवों में केवल 15 हजार
   बीएस जाटव, नोडल अधिकारी और सीईओ, जिपं के मुताबिक,  जिले की सीमा पर स्थित ग्यारा और डिरोलीपार ऐसे गांव हैं जहां 500 से अधिक लोगों के बाहर से आने का रिकाॅर्ड है। सिरसा गांव में तीन कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं। इस गांव में 300 से अधिक लोगों के दूसरे राज्यों से आने की जानकारी स्वयं सरपंच ने दी है। इसके अलावा कई गांवों में 200 से अधिक लोग आए हैं। ग्रामीण क्षेत्र में करीब 15 हजार लोगों का आना बताया जा रहा है। इस प्रकार जिले के 500 गांवों के अनुसार औसतन करीब 30 लोग एक गांव में आए हैं। यह आंकड़ा भी समझ से बाहर है क्योंकि सरपंच, सचिवों और ग्रामीणों से मिल रही सूचनाओं के अनुसार हर गांव में पिछले दो महीने में 100 से अधिक लोग ही आए हैं। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र का आंकड़ा भी गलत दिख रहा है।

नगरीय क्षेत्रों में संख्या कम, लापरवाही पर हटाए सीएमओ
^नगरीय क्षेत्रों की जानकारी नगर निकायों ने भेजी है। प्रवासी मजदूरों की संख्या कम आने पर संबंधित निकायों से स्पष्टीकारण मांगा था। लापरवाही मिलने से दतिया सीएमओ को हटा दिया है। ग्रामीण क्षेत्र में संख्या सही दर्ज है। क्वारेंटाइन पीरियड खत्म होने पर लोगों के जॉबकार्ड बनाए जाएंगे।          

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना