• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Datiya
  • The Stepmother Hated The Children So Much That She First Poisoned The 11 And 7 Year Old Child, Then Strangled Her, Cut Off The Child's Genitals And Then Stabbed Her With A Knife.

शक ने सौतेली मां को बनाया हैवान:मानती थी कि जादू टोना कर मेरा गर्भ गिरवाया, बदले के लिए सौतन के बेटा-बेटी का गला घोंटकर चाकू से गोद डाला, मासूम का गुप्तांग भी काटा

दतिया4 महीने पहले

MP के दतिया में एक सौतेली मां ने अपने दो बच्चों की निर्मम हत्या कर दी। उसे शक था कि उसे शक था कि उसका दो महीने का गर्भ पति की पहली पत्नी ने जादू-टोना कर के गिरा दिया। उसे माधुरी के बच्चों का हंसना, खेलना और अपनी सगी मां से बार-बार मिलना बिल्कुल भी पसंद नहीं था। वह बच्चों से इतना नफरत करती थी कि पहले उसने 11 साल की बेटी जाह्नवी उर्फ गिरजा और 7 साल के बेटे अर्नव का गला दबाया। मरने के बाद चाकू से दोनों को गोदा। इतना ही नहीं अर्नव का तो गुप्तांग तक काट दिया।

SDOP सुमित अग्रवाल ने बताया कि घटना बुधवार सुबह करीब साढ़े 11 बजे बक्सी हनुमान मंदिर के पीछे सपा पहाड़ मोहल्ले की है। टोला गांव कांकेर छत्तीसगढ़ की रहने वाली सौतेली मां ज्योति कोरी ने ही बच्चों की हत्या की है। उसने 8 महीने पहले 37 साल के अरविंद माहौर से शादी की थी। अरविंद ने पहली पत्नी माधुरी को बिना तलाक दिए ही छोड़ दिया था। जब भी माधुरी अपने बच्चों से मिलने आती तो दोनों पत्नियों के बीच विवाद होता था। सौतेली मां ज्योति ने बच्चों को प्राइवेट स्कूल से निकालकर सरकारी स्कूल में डाल दिया था। कुछ महीने पहले ज्योति गर्भवती हुई थी। दो महीने बाद उसका गर्भपात हो गया। उसे लगा कि माधुरी ने जादू टोना करवाया है। माधुरी से बदला लेने के लिए उसने मासूमों की नृशंस हत्या कर दी।

हत्या का तरीका विभत्स था
पुलिस मौके पर पहुंची तो मासूम जाह्नवी (11) साल एक कमरे में मृत पड़ी हुई थी। उसके शरीर को चाकू से गोदा गया था। दूसरे कमरे में अर्नव (7) भी मृत पड़ा था। उसका गुप्तांग भी काट दिया गया था। उसके शरीर पर चाकू से कई वार किए गए थे। पहले इन दोनों बच्चों का गला दबाया गया था। इसके बाद चाकू से गोदा गया। इसके बाद बच्चे का गुप्तांग काटा गया। पुलिस का कहना है कि इस तरह की नृशंस हत्या का तरीका कम ही अपराधों में देखने को मिलता है।

पुलिस इस तरह से पहुंची सौतेली मां तक
SDOP ने बताया कि ज्योति को थाने बुलाने पर उसने स्पष्ट कहा कि वह इंदरगढ़ गई थी। इंदरगढ़ में किसी बाबा के पास वह अक्सर आया-जाया करती है। इस पर पुलिस ने आस-पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे जांचे तो पता चला कि ज्योति कहीं गई ही नहीं थी। दोपहर 1 बजे वह बाहर जाते नजर आई। इसके बाद पुलिस ने सख्ती की तो वह टूट गई और गुनाह कबूल लिया।

पिता काम से लौटा तो बच्चे कमरे में मृत पड़े थे
मौके पर पहुंची पुलिस को अरविंद ने बताया कि वह पेशे से मजदूर है और बुधवार सुबह करीब 9 बजे काम पर चला गया था। दोपहर करीब डेढ़ बजे आया तो बच्चे अलग-अलग कमरे में मृत पड़े थे। पड़ोसियों ने बताया कि ज्योति सुबह करीब 10 बजे घर से निकली थी। उसने बताया था कि वह सिद्ध बाबा मंदिर दर्शन करने जा रही है, हालांकि मोहल्ले की एक महिला ने बताया कि उसने ज्योति को शहर की तरफ जाते देखा था।

बिलखती हुई सगी मां माधुरी ने बताई दास्तां
महाराष्ट्र के वर्धा की रहने वाली माधुरी ने बताया कि, 11 साल पहले उसकी अरविंद से शादी हुई थी। उसने झांसा देकर मुझसे शादी की थी। वह यहां मजदूरी करता था और मेरे परिवार को उसने एक समृद्ध किसान बताया था। अभी वह इकोना गांव में किसी के साथ रह रही है। उसने बताया कि मैं जब भी बच्चों से मिलने आती थी, तो ज्योति झगड़ती थी। पति बच्चों से मिलने नहीं देता था। पिछली बार जब जाह्नवी से मिली थी तब वह कह रही थी कि मम्मी मैं आपके साथ चलूंगी, यहां हमें सौतेली मां बहुत मारती है। बेटे अर्नव ने भी उसी के साथ रहने की जिद की थी।अरविंद उन्हें ले जाने नहीं दे रहा था। तलाक को लेकर कहा कि सिर्फ वकील के यहां नोटरी पर ही राजीनामा हुआ था। उसने मुझे छोड़ दिया और मेरे बच्चों को अपने पास रख लिया था।

पहली पत्नी से एक साल पहले अलग हुआ था अरविंद
भिंड जिले के गैंथरी गांव का रहने वाला अरविंद करीब 8 साल से दतिया के सपा पहाड़ मोहल्ले में रह रहा था। पत्नी माधुरी से उसे दाे बच्चे गिरजा और अर्नव थे। अरविंद और माधुरी के बीच आए दिन विवाद होता था। एक साल पहले विवाद हुआ तो माधुरी थाने पहुंच गई। लिखित में समझौता होने के बाद दोनों अलग हो गए। बच्चे अरविंद के पास ही रहने लगे, हालांकि बच्चों से मिलने के लिए माधुरी कभी-कभी आती थी।

पूरा मामला यहां पढ़ें...

खबरें और भी हैं...