पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर ने उठाया था मुद्दा:मेहनत रंग लाई... बैसली बांध का होगा गहरीकरण, 1.32 करोड़ का प्रस्ताव भेजा

गोहद18 दिन पहलेलेखक: रिंकू कटारे
  • कॉपी लिंक
गोहद का बेसली बांध, जिसके गहरीकरण का प्रस्ताव भेजा गया है। - Dainik Bhaskar
गोहद का बेसली बांध, जिसके गहरीकरण का प्रस्ताव भेजा गया है।
  • गोहद के लोगों ने अभियान चलाकर की थी बांध की सफाई

गोहद के बैसली बांध में जमा सिल्ट (पानी के साथ बहकर आने वाली मिट्टी) की सफाई होगी। जल संसाधन विभाग ने बांध का गहरीकरण कराने के लिए प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा है। साथ ही इस सफाई पर अनुमानित खर्चा करीब 1.38 करोड़ रुपए बताया है।

बता दें कि गोहद नगर की जनता बैसली बांध के पानी से प्यास बुझाती है। लेकिन वर्तमान में बांध में काफी मात्रा में सिल्ट जमा होने के कारण उसकी जल संग्रहण क्षमता घट गई है, जिससे गर्मी के मौसम में गोहद नगर में भीषण पेयजल संकट उत्पन्न हो जाता है। साथ ही बांध का जलस्तर घटने से गोहद नगर के नलकूपों का भी जलस्तर नीचे की ओर गिर जाता है। ऐसे में बांध का गहरीकरण कराए जाने के लिए जल संसाधन विभाग की कार्यपालन यंत्री सीमा त्रिपाठी ने इसकी सफाई के लिए प्रस्ताव तैयार कराया है। साथ ही सफाई कार्य पर करीब एक करोड़ 38 लाख रुपए अनुमानित खर्चा भी बताया गया है। यदि इस प्रस्ताव को स्वीकृति मिलती है तो जल्द ही गोहद के बैसली बांध का गहरीकरण का कार्य प्रारंभ होगा, जिससे उसकी जल संग्रहण क्षमता बढ़ेगी।

508 फीट तक भरा जाता है पानीः जल संसाधन विभाग के अनुसार बैसली बांध का न्यूनतम जलस्तर 500 फीट है। जबकि अधिकतम स्तर 530 फीट है। हालांकि हाईकोर्ट के निर्देश पर इसमें 508 फीट तक पानी भरा जाता है। जबकि एक अनुमान के मुताबिक बांध में 505 फीट तक सिल्ट जमा है, जिससे मात्र तीन फीट में पानी का संग्रहण हो पाता है। यह बांध 1070 हैक्टेयर में फैला हुआ है। वहीं इसमें 532 मिलियन क्यूबिक फीट पानी भरा जा सकता है।

बांध की सफाई के लिए लोग कर चुके हैं आंदोलन

बेसली बांध के गहरीकरण के लिए 4 महीने पहले गोहद नगरवासी बड़ा आंदोलन कर चुके हैं। दैनिक भास्कर की पहल पर नगर के लोगों ने बांध की सफाई के लिए न सिर्फ स्वयं चंदा कर उसमें मशीनें उतारकर गहरीकरण कराया था। बल्कि श्रमदान भी किया था। नगरवासियों के जोश जुनून को देख प्रशासन ने भी उन्हें ट्रक, डंपर और मशीनें उपलब्ध कराकर सहयोग किया था। इसके बाद गोहद नगरपालिका सीएमओ रामप्रकाश जिगनेरिया ने जल संसाधन विभाग को इसका गहरीकरण कराने के लिए पत्राचार किया था।

खबरें और भी हैं...