पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वेबिनार का समापन:कीटनाशक के कुप्रभाव को रोकने में जैविक खेती कारगर

गोहद18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

क्रॉप प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड गोहद आयोजित पांच दिवसीय वेबिनार का समापन रविवार को किया गया। आखिरी दिन वेबिनार राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर के कृषि वैज्ञानिकों ने कृषकों को जैविक खेती से जुड़ी हुई कई अहम जानकारी किसानों दी गई। वेबिनार के दौरान कृषि वैज्ञानिक डॉ. एसके सिंह ने कहा कि देश में कृषि की घटती जोत, संसाधनों की कमी,लगातार कम होती कार्यकुशलता और कृषि की बढ़ती लागत तथा उर्वरक व कीटनाशक के पर्यावरण पर बढ़ते कुप्रभाव को रोकने में निःसंदेह जैविक खेती एक वरदान साबित हो सकती है। आधुनिक समय में जैविक खेती की मांग किसानों के बीच बढ़ रही है।

इसी क्रम में कृषि वैज्ञानिक डॉ.आरकेएस तोमर ने किसानों को धान की सीधी बोवनी के संबंध में जानकारी देते हुए सीधी बोवनी से होने वाले लाभ के बारे में बताया । इसके अलावा किसानों को विभिन्न विषय पर प्रशिक्षण दिया। डॉ.प्रशांत कुमार गुप्ता ने कृषकों को फलदार पौधे लगाने से पूर्व गड्ढे बनाने तथा गड्ढे भरने की तकनीकी की जानकारी प्रदान की साथ ही अधिक उत्पादन देने वाली समस्त कल्प वृक्षों की किस्म के बारे में विस्तृत प्रशिक्षण दिया। क्रॉप प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के चेयरमैन बाली सिंह ने बताया कि पिछले लॉकडाउन में भी कंपनी ने किसानों को वेबिनार के माध्यम से कृषि से जुड़ी कई अहम जानकारी से अवगत कराया था।

खबरें और भी हैं...