पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Gohad
  • People Of 60 Villages Stopped Going In Kinship, Prevented Outsiders From Entering The Village, The Epidemic Remained Away

ऐसी ही जागरूकता चाहिए:60 गांवों के लोगों ने रिश्तेदारी में जाना बंद किया, बाहरी लोगों का गांव में प्रवेश रोका, दूर रही महामारी

गोहद24 दिन पहलेलेखक: रिंकू कटारे
  • कॉपी लिंक
गोहद के सुहास गांव में ग्रामीण मास्क और गमछा बांधकर पेड़ के नीचे दूर-दूर बैठकर बात करते हुए । - Dainik Bhaskar
गोहद के सुहास गांव में ग्रामीण मास्क और गमछा बांधकर पेड़ के नीचे दूर-दूर बैठकर बात करते हुए ।
  • गोहद के 60 गांव में एक भी कोरोना संक्रमित नहीं मिला क्योंकि पहले से बरती सावधानी
  • बीएमओ बोले- ऐसे गांव हमारे रोल मॉडल, सभी करें इनक अनुसरण

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर की आशंका जतायी जा रही है। शहरों के साथ ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना का कहर देखने को मिल रहा है। ग्रामीण इलाकों में उपलब्ध स्वास्थ्य सेवाएं कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए नाकाफी हैं। ग्रामीण इलाकों में कोरोना महामारी के लक्षणों को भी छिपाया जा रहा है। महामारी की दूसरी लहर में अब तक एक भी ग्रामीण संक्रमित नहीं हुआ है। इसका प्रमुख कारण वहां के लाेगों ने संकल्प लेकर कोविड गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया। खास बात ये है कि पहली लहर में भी ये गांव संक्रमण से दूर रहे।

गौरतलब है कि अप्रैल माह के शुरूआती दिनों में गोहद क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा होने लगा था, मरीजों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए प्रशासन द्वारा17 अप्रैल को संपूर्ण गोहद क्षेत्र के कोरोना कोरोना कर्फ्यू लगा दिया गया था। साथ ही एसडीएम शुभम शर्मा, एसडीओपी नरेंद्र सिंह सोलंकी, तहसीलदार रामजी लाल वर्मा, बीएमओ डॉ. आलोक शर्मा सहित अन्य अधिकारियों ने ग्रामीण इलाकों में खुद पहुंचकर ग्रामीणों को संक्रमण से बचाव करने के लिए सतर्कता बरतने की समझाइश दी। जिसके परिणाम स्वरूप क्षेत्र के इन 60 गांव के लोगों ने गांव में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरी तरह सख्ती से कोरोना गाइड लाइन का पालन किया।

इन गांवों में नहीं पहुंची कोरोना महामारीः गाेहद क्षेत्र के वीरपुरा, खितौली, सुहांस, माधवगढ़,मकूरी, इकाहरा, लौहारी का पुरा, रामपुरा, मकाटा,लेहचुरा का पुरा सहित कुल60 गांवों में कोरोना की दूसरी लहर के चलते अभी तक एक भी ग्रामीण संक्रमित नहीं हुआ है। इसके पीछे गांव के लोगों का दृढ़ संकल्प और इच्छा शक्ति ही है कि ग्रामीणों ने मिलकर अपने -अपने गांवों को सुरक्षित रखा। इन गांव के लोगों ने कोरोना क चलते जहां रिश्तेदारी में जाना बंद कर रखा है। वहीं गांव में किसी बाहरी व्यक्ति को भी नहीं आने देते हैं, अगर कोई व्यक्ति आ भी जाता है तो उसकी जानकारी प्रशासन और ग्राम पंचायत को देते हैं। इसके अलावा अगर परिवार का कोई भी व्यक्ति गांव के अंदर से या फिर अपने खेत-खलियान से आता है, तो पहले घर के बाहर साबुन से अपने हाथ और पैरों को धोता है। उसके बाद ही घर के अंदर प्रवेश करता है।

अन्य गांवों में कोविड प्रोटोकोल का पालन नहीं, इसलिए फैला संक्रमण
अकसर गांवों में लोग एकत्र होकर एक साथ बैठते हैं। साथ बैठकर हुक्का पीते हैं और ताश खेलते रहते हैं। इसके अलावा अधिकांश लोग मास्क तक नहीं लगाते। इन्हीं कारणों से कोरोना संक्रमण गांवों को भी अपनी चपेट में ले लिया। बीएमओ डॉ. आलोक शर्मा का कहना है कि कोरोना संक्रमण से बचाव का एकमात्र उपाय कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना है। उन्होंने कहा कि 2 गज की दूरी और मास्क है जरूरी इस फार्मूले पर चलते हुए हम इस बीमारी के संक्रमण से बच सकते हैं।
इन गांवों ने उदाहरण प्रस्तुत किया अब सभी इन्हीं की तरह नियम मानें
बीएमओ आलोक शर्मा कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता काफी कम होती है, लेकिन इन गांवों के लोगों ने कोविड गाइडलाइन का पालन कर बेहतरीन उदाहरण प्रस्तुत किया है। उन्होंने कहा कि बाकी अन्य गांव के लोगों को भी इन नियमों का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर किसी को बुखार है अथवा कोविड-19 के कोई भी लक्षण दिखाई देते हैं तो वह तुरंत अपनी जांच अवश्य करवाएं। उन्होंने कहा कि धीरे धीरे संक्रमण बेशक काम हो रहा है। इसके बावजूद हमें ढील नहीं बरतनी है।
गाेहद के कई गांवों में 100 फीसदी तक हो चुका है वैक्सीनेशन
गोहद क्षेत्र के खनेता, झांकरी, बिरखड़ी, एंनो,गुहीसर, ऐचाया, अंधियारी खुर्द, बढैरा-मौ, खुर्द गांव में अब-तब 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन हो चुका है। इसके पीछे मुख्य कारण ग्रामीणों द्वारा वैक्सीन को लेकर फैली अफवाहों पर ध्यान न देना रहा है। जबकि अंचल में अभी भी कुछ गांवों में लोग वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे हैं, उनका कहना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद बुखार आ जाता है। जबकि प्रशासन वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए लगातार अभियान चला रहा है।

शासन के नियमों का पालन करें लोग

^कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए शहर और गांव में रहने वाले लोग शासन द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन करें। ऐसा करने से ही हम कोरोना की इस जंग को जीत सकते हैं।
शुभम शर्मा, एसडीएम, गोहद

खबरें और भी हैं...