वैक्सीनेशन:दफेदार ने कहा वैक्सीनेशन प्रमाण-पत्र के साथ ही कोचिंग सेंटरों पर छात्रों को पढ़ाया जाए

कैलारस10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोचिंग सेंटर पर वैक्सीनेशन प्रमाण-पत्र के बगैर छात्र-छात्राओं को न पढ़ाया जाए। इसके साथ ही जो बच्चे कोरोना वैक्सीन लगाने से रह गए हैं उन्हें तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचाकर वैक्सीनेशन कराया जाए। यह निर्देश बीआरसी दफेदार सिंह सिकरवार कोचिंग संचालकों की बैठक में गुरुवार को दे रहे थे। बैठक का आयोजन जनपद सभागार में किया गया। जिसमें नगर के अधिकांश कोचिंग संचालक मौजूद थे। बैठक में कोचिंग संचालकों से ऐसे छात्र-छात्राओं की जानकारी ली गई, जिन्हें वैक्सीन लगाई जानी है। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन कार्य मानव सेवा से जुड़ा हुआ है।

इसलिए प्रत्येक जागरुक नागरिक का कर्तव्य है कि वो 15 से 18 साल के बच्चों का शतप्रतिशत वैक्सीनेशन कराने में योगदान करें। बीआरसी ने कोचिंग सेंटर संचालकों को साफ तौर पर बताया गया कि शासन के कड़े निर्देश हैं कि जिन छात्रों को वैक्सीन लग चुकी है, उन्हें ही सेंटर पर पढ़ाया जाए। जिन्हें वैक्सीन नहीं लगी है उन्हें सेंटर पर बिल्कुल न पढ़ाया जाए, बल्कि कोचिंग पर आते ही उसे वैक्सीन लगवाने भेजा जाए।

इसके अलावा कोचिंग क्लास में मास्क लगाकर ही छात्रों को बैठाया जाए, सामाजिक दूरी का पालन सुनिश्चित होना चाहिए। बैठक में जयवीर सिंह जादौन, बीएमओ डॉ एसआर मिश्रा, बीएसी रमाकांत शर्मा, फखरुद्दीन खान, केशव शुक्ला, मुकेश रजक सहित शिक्षा विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...