कामना:सामूहिक निर्वाण लाडू चढ़ा, भक्तामर‎ के 48 काव्यों की दीप आराधना हुई‎

शिवपुरी23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विश्व के सभी प्राणियों‎ के सुखद स्वास्थ्य की‎ कामना की‎

इस बार संक्रमण कम हुआ तो‎ लोग भगवान की पूजा अर्चना करने ‎सामूहिक रूप से मंदिर आए। इस‎ दौरान न केवल संगीतमय भक्ति ‎आराधना हुई वरन 48 दीपक के ‎माध्यम से सामूहिक भक्तामर महा‎ अर्चना भी की गई।‎ आयोजन समिति प्रमुख महावीर‎ जिनालय अध्यक्ष मोती चंद जैन‎ और महामंत्री चंद्रसेन जैन ने‎ संयुक्त रूप से बताया कि जैन‎ दर्शन में महावीर निर्वाण महोत्सव‎ का अवसर भगवान महावीर के‎ मोक्ष जाने को लेकर मनाया जाता‎ है।

शास्त्रों में ऐसी मान्यता है‎ कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन‎ ब्रह्म मुहूर्त बेला में भगवान महावीर‎ को मोक्ष कल्याणक की प्राप्ति हुई‎ थी।और संध्या काल की बेला में‎ उनके प्रमुख गणधर रहे गौम‎ स्वामी को केवलज्ञान की प्राप्ति‎ हुई। इस वजह से जैन समुदाय द्वारा‎ भगवान महावीर स्वामी का मोक्ष‎​​​​​​​ कल्याणक ब्रह्म मुहूर्त बेला में जिना‎​​​​​​​लयों में मना। और गोधूलि बेला में‎ गौतम स्वामी की केवलज्ञान पूजा‎ कर उनकी आराधना की गई।‎

खबरें और भी हैं...