कार्रवाई:चोरी छिपे बच्चों को पढ़ाने पर दो शिक्षकों पर एफआईआर

लहारएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • काेरोना काल में भी लहार में खुल रही कोचिंग

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते स्कूल कॉलेज बंद होने के बाद भी लहार कस्बे में कुछ शिक्षक चोरी छिपे बच्चों को पढ़ा रहे हैं। मंगलवार की सुबह करीब सात बजे लहार एसडीएम आरए प्रजापति, बीईओ शिवराज सिंह कुशवाह सहित अन्य अधिकारियों ने ऐसी कोचिंग सेंटर पर छापा मारा। साथ ही वहां बच्चे मिलने पर एसडीएम ने दो खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। वहीं तीन शिक्षकों को नोटिस जारी कर तीन दिवस में जबाव मांगा गया है। बताया जा रहा है कि कलेक्टर वीरेंद्र सिंह रावत को सूचना मिल रही थी कि लहार कस्बे में कुछ प्राइवेट शिक्षक चोरी छिपे कोचिंग पर सामूहिक रुप से बच्चों को पढ़ा रहे हैं । साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं कराया जा रहा है, जिससे बच्चों में संक्रमण फैलने का खतरा है। ऐसे में मंगलवार की सुबह सात बजे लहार एसडीएम आरए प्रजापति, बीईओ शिवराज सिंह कुशवाह को लेकर सब्जी मंडी रोड स्थित कोचिंग सेंटरों को चेक करने पहुंचे तो वहां अंग्रेजी के शिक्षक राघवेंद्र सेंगर की कोचिंग में 30 और गणित के शिक्षक केशव झा की क्लास में 8 बच्चे बैठे मिले। साथ ही यह बच्चे आपस में काफी सटकर बैठे हुए थे। ऐसे में एसडीएम ने उक्त शिक्षकों पर गहरी नाराजगी जाहिर की। वहीं शिक्षक राघवेंद्र सेंगर ओर केशव झा के खिलाफ लहार थाना में एफआईआर दर्ज कराई। अफसरों के मुताबिक कार्रवाई अभी जारी रहेगी।

टीम पहुंचने से पहले लग गया अन्य कोचिंग पर ताला
एसडीएम और बीईओ ने राघवेंद्र सेंगर और केशव झा की कोचिंग के बाद इस रोड पर संचालित रामबरन बघेल, राजवीर शाक्य और ज्ञान सिंह यादव की कोचिंग पर पहुंचे। जहां ज्ञान सिंह कोचिंग पर भी एसडीएम को 14 बच्चे मिले। वहीं अन्य कोचिंग संचालकों ने जांच की सूचना मिलने पर बच्चों को भगा दिया। ऐसे में लहार बीईओ ने उक्त तीनों कोचिंग संचालकों को नोटिस जारी किया है।

खबरें और भी हैं...