सबलगढ़ का मामला / सिविल अस्पताल में 36 पद खाली इलाज न मिलने से मरीज परेशान

36 posts vacated in civil hospital, patients upset due to lack of treatment
X
36 posts vacated in civil hospital, patients upset due to lack of treatment

  • सिविल अस्पताल में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिफ्ट होने के 5 माह बाद भी उसके 36 रिक्त पदों की पूर्ति नहीं हो रही है,

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:58 AM IST

मुरैना. सिविल अस्पताल में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिफ्ट होने के 5 माह बाद भी उसके 36 रिक्त पदों की पूर्ति नहीं हो रही है, कमरे ज्यादा होने से सफाई का काम बढ़ गया है, जिससे मरीजों को उपचार देने में परेशानी आ रही है। हॉस्पिटल में सामान्य पुरुष, महिला एवं बच्चा वार्ड अभी तक शुरू नहीं हो सके हैं। इसके साथ ही अस्पताल में आवश्यक दवाइयां उपलब्ध नहीं हैं, जिससे मरीजों को बाहर से दवाइयां खरीदनी पड़ रही हैं। सिविल अस्पताल को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का आवश्यक पैरामेडिकल स्टाफ अभी तक नहीं मिल पाया है। जिसमें मरीजों को दवाई बांटने के लिए अभी 1 फार्मासिस्ट, वार्ड में ड्यूटी के लिए 4 स्टाफ नर्स, साफ सफाई करने के लिए 6 वार्ड बॉय, इमरजेंसी में पट्टी करने के लिए 2 ड्रेसर न होने से अस्पताल की व्यवस्थाएं चरमरा रही हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अभी ओपीडी बंद चल रही है। गर्मियों का सीजन होने के बाद भी कोल्ड ओपीडी कम नहीं हो पा रही है, यहां पर्चा काटने के लिए भी एक व्यक्ति की आवश्यकता है। 

वहीं मरीजों को लंबी-लंबी लाइनों में लगने के कारण काफी समय लग जाता है, इसके बाद चिकित्सकों के यहां भी लंबी-लंबी लाइनें लग जाती हैं। एक मरीज को हॉस्पिटल में प्रवेश करने से परामर्श एवं दवा लेकर बाहर निकलने में 2 घंटे का समय लगता है। कभी पर्चा काटने का काउंटर जल्दी बंद हो जाने के कारण भी वापिस लौट कर लंच के बाद आना पड़ता है जिससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं इमरजेंसी में आने वाले मरीजों का इलाज सरकारी दवाइयों के भरोसे नहीं हो पाता है, जिससे मरीज को शीघ्रता देने के लिए बाहर से दवाई मंगाना पड़ती हैं। रेबीज वैक्सीन, इंजेक्शन हाइड्रोसिल बीवी लोशन, अजिथरोमायसिंन इत्यादि नहीं हैं। ग्लव्स नहीं होने से डॉक्टर व पैरामेडिकल परेशान है। अस्पताल में 25 बार बिजली आती जाती है। बिजली जाने पर जनरेटर के कनेक्शन प्रॉपर ना होने के कारण संपूर्ण भवन का लोड नहीं सेंड कर पाता है जिसके कारण जनरेटर चालू नहीं हो पाता है जिससे रात में अंधेरा रहता है। 

50 बिस्तर का अस्पताल होने के 5 माह बाद भी 3 वार्ड नहीं हुए संचालित
सिविल अस्पताल में दो मंजिला पर सामान्य पुरुष महिला बच्चा वार्ड बने हुए हैं, लेकिन 5 माह से आज तक संचालित नहीं हो पाए। बारिश का मौसम नजदीक है जिसमें सामान्य मरीजों एवं प्रसवों की संख्या अधिक बढ़ जाएगी। जिसके कारण नीचे 1 ही वार्ड में भर्ती पलंग की संख्या कम होने से प्रसूताएं 8 घंटे भी नहीं रुक पा रही है। पैरामेडिकल स्टाफ की कमी के कारण इमरजेंसी वार्ड भी संचालित नहीं हो पा रहा है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना