मुरैना में सेंट्रल बैंक घोटाला:सेंट्रल बैंक की रजौधा शाखा से निकल गए 9 लाख, अब कैसे होगी बेटी की शादी, 15 जनवरी को जाना है फलदान

मुरैना21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सेन्ट्रल बैंक की रजौधा शाखा - Dainik Bhaskar
सेन्ट्रल बैंक की रजौधा शाखा

मुरैना की पोरसा स्थित सेन्ट्रल बैंक की रजौधा शाखा से जिन ग्राहकों के 27 लाख रुपए निकले हैं, उनमें डॉ. रामनरेश सिंह तोमर के भी 9 लाख रुपए निकले हैं। उनकी बेटी की शादी इसी माह है तथा 15 जनवरी को उसका फलदान जाना है। रुपए निकल जाने के बाद अब बेटी की शादी कैसे होगी। यह चिंता रामनरेश सिंह को सताए जा रही है। उन्होंने पोरसा के नायब तहसीलदार के यहां आवेदन देकर बैंक के सामने धरना देने की मांग की है। सेन्ट्रल बैंक की रजौधा शाखा में हुए 27 लाख रुपए के गबन के बाद, इस मामले में बैंक प्रबंधन ने पूरी तरह से चुप्पी साथ रखी है, वहीं दूसरी तरफ पुलिस भी हाथ पर हाथ धरकर बैठ गई है। इस मामले में नगरा थाना में एफआईआर दर्ज करने के लिए पहले ही आवेदन दिया जा चुका है। इस घटना को घटे लगभग एक माह बीत चुका है, उसके बावजूद अभी ग्राहकों को पैसा वापस मिलने की बात तो अलग, मिलने की उम्मीद भी नहीं दिखाई दे रही है। ऐसे में समस्या डॉ.रामनरेश सिंह तोमर की आ रही है। इसी माह उनकी बेटी की शादी है। 15 जनवरी को उसका फलदान जाना है। उनके 9 लाख रुपए इस बैंक में जमा थे जो निकाल लिए गए हैं। अब उनके यह समस्या है कि वह अपनी बेटी की शादी कैसे करें? जब कोई चारा उन्हें नहीं दिखा तो उन्होंने पोरसा तहसीलदार के यहां आवेदन देकर बैंक के सामने धरना देने की अनुमित मांगी है।

डॉ. रामनरेश सिंह तोमर
डॉ. रामनरेश सिंह तोमर

कैशियर गायब, प्रबंधक का ट्रांसफर
रजौधा शाखा में जिस सौरभ तोमर नामक कैशियर द्वारा 27 लाख रुपए का गबन किया गया है। वह घर से गायब है तथा पुलिस उसे तलाश रही है। दूसरी तरफ जिस बैंक मैनेजर की आईडी से कैशियर सौरभ तोमर ने पैसा निकाला था, उसका ट्रांसफर हो चुका है तथा उसकी जगह बैंक ने नए मैनेजर को भेज दिया है।
एक नजर में पूरा मामला संक्षेप में
पोरसा के सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया की रजौदा शाखा में आधा दर्जन खातेदारों के खाते से 27 लाख रुपए निकाल लिए गए हैं। जब ग्राहकों को पता लगा कि उनके पैसे निकल गए तो उन्होंने बैंक प्रबंधन से बात की। बैंक प्रबंधन ने जब जानकारी निकाली तो पता लगा कि बैंक मैनेजर रामचन्द्र सेन की आईडी से पैसा ट्रांसफर किया गया है। यह पैसा कैशियर सौरभ तोमर द्वारा निकाला गया है। इसके बाद इस बात का भी खुलासा हुआ कि कैशियर सौरभ तोमर ने इस पैसे से ऑनलाइन रमी वाला जुआ खेला जिसमें वह हार गयाा। उसके बाद पकड़े जाने पर उसने जहर खा लिया था। लेकिन वह बच गया था।
पुलिस की लापरवाही आई सामने
इस संबंध में जब नगरा थाना प्रभारी केके सिंह से बात की तो उनका कहना हैै कि उन्हें अभी थाने का चार्ज लिए कुछ ही समय बीता है, लिहााजा इसकी जानकारी इस मामले की जांच कर रहे एसआई उपेन्द्र पाराशर से ले लें। जब एसआई उपेन्द्र पाराशर को फोन लगाया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

खबरें और भी हैं...