पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

षडग्रही योग:59 साल बाद मकर राशि में फिर जुटेंगे छह ग्रह

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 9 फरवरी को मकर राशि में 6 ग्रह एक साथ होंगे, देश-दुनियां में हो सकते हैं बड़े बदलाव

आगामी 9 फरवरी को मकर राशि में 6 ग्रह एक साथ मौजूद होंगे। मकर राशि में ग्रहों की यह स्थिति 59 साल बाद बन रही है। इसके पहले 1962 में मकर में 6 ग्रहों की युति हुई थी। ज्योतिषियों के मुताबिक यह षड्ग्रही योग कहलाता है। वैसे तो यह योग मौसम पर विपरीत असर डालने वाला होता है, लेकिन कोई बड़ी राजनैतिक उथल-पुथल की भी संभावना है। इसकी वजह मकर राशि में इस योग का बनना एक शताब्दी में दो या तीन बार ही संभव होता है।
आचार्य पं.रामदत्त मिश्र के अनुसार गत 24 जनवरी से शनि स्वयं इस राशि में गोचर कर रहे हैं। यह शनि के आधिपत्य वाली ही राशि है। गत 20 नवंबर को बृहस्पति भी इस राशि में पहुंच गए थे। क्रमशः बुध, सूर्य और शुक्र का भी इस राशि में प्रवेश हुआ। इससे शनि की मकर राशि में पंचग्रही युति बनी। अब 9 फरवरी की रात 8.30 चंद्रमा भी इसमें शामिल होंगे। इससे षड्ग्रही योग बनेगा

मौसम पर रहेगा सर्वाधिक असर
पश्चिमी और उत्तरी क्षेत्रों में एकाएक मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा । पं. मिश्र ने बताया कि छह ग्रहों की यह युति मौसम पर सर्वाधिक असर डालेगी। पश्चिमी और उत्तरी क्षेत्रों में एकाएक मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। यह परिवर्तन जन स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाले होंगे।

किसानों और व्यापारियों के लिए यह समय संघर्ष का रहेगा। जबकि धर्म और आध्यात्म और शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक प्रभाव दिखाई देंगे। सरकारी की ओर से इन क्षेत्रों में कई लाभकारी घोषणा होंगी। महिलाओं के लिए यह युति सम्मान बढ़ाने वाली होगी। महिलाओं को कई बड़े पद हासिल हो सकते हैं। कलाकारों के रुके हुए काम पूरे होंगे।

भू-राजनीतिक बदलाव होने की स्थिति बनेगी
आचार्य पं.रामदत्त मिश्र ने बताया कि एक राशि में 5 या उससे अधिक ग्रह (राहु-केतु को छोड़कर) आकर मिलें, तो देश-दुनिया में बड़े भू-राजनीतिक बदलाव होते हैं।

पहले भी बने हैं ऐसे योग...तब 7 ग्रहों की युति हुई थी
1962 के फरवरी माह में मकर राशि में 7 ग्रहों की युति हुई थी। जिसके परिणामस्वरूप महाशक्तियां अमेरिका और तत्कालीन सोवियत रूस क्यूबा मिसाइल संकट में उलझ गए थे। युद्ध के भय से विश्व राजनीति दो खेमों में बंट गयी थी। जिससे दशकों तक शीत युद्ध की स्थिति बनी रही।

बाद में वर्ष 1979 के सितंबर महीने में सिंह राशि में 5 ग्रहों के योग ने ईरान में इस्लामिक क्रांति से मुस्लिम जगत में उथल-पुथल मचा दी, जिससे अफगानिस्तान, पाकिस्तान और भारत में इस्लामिक आतंकवाद का प्रसार हुआ जिससे आने वाले दशकों तक भारत सहित दुनिया के कई देशों में रक्तपात हुआ।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें