पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुरैना में सिंधिया:ज्योतिरादित्य बोले- मैं, अवैध उत्खनन के खिलाफ, SDO पर हमले में अभी तक कार्रवाई क्यों नहीं, पूछने पर टाल गए सवाल

मुरैना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्रद्धांजलि देते सांसद सिंधिया - Dainik Bhaskar
श्रद्धांजलि देते सांसद सिंधिया
  • अवैध खनन के मामले में बोलने से बचते दिखे सिंधिया, बोले वैध खनन होना चाहिए, अवैध नहीं
  • सभी के यहां श्रद्धांजलि देने पहुंचे, सबसे जुड़े रहने का किया निवेदन

शुक्रवार शाम मुरैना पहुंचे राज्यसभा सांसद व BJP नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कुछ भाजपा नेताओं से मुलाकात की है। मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते समय सवालों के आक्रमकता से जवाब देते दिखे। अवैध उत्खनन के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं हमेशा से अवैध उत्खनन के खिलाफ हूं। वैध खनन होना चाहिए जो सरकार को रायल्टी दे रहा है उसे ही खनन करना चाहिए, पर जब वन विभाग की SDO पर बार-बार हमला होने और हमले के 24 घंटे बाद भी कोई एक्शन न होने का सवाल पूछा तो वह चुप्पी साध गए।

इतना ही नहीं जब सिंधिया से पूछा गया कि कांग्रेस में उनके दोस्त राजस्थान के बड़े नेता सचिन पायलट भी क्या भाजपा में आने वाले हैं, तो वह सवाल का जवाब देने के बदले टालते हुए आगे निकल गए।

भाजपा नेता अशोक यादव के घर पहुंचे

राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया शुक्रवार को मुरैना पहुंचे। वहां वे भाजपा पदाधिकारियों के यहां उनके परिजन के निधन पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। सबसे पहले वह वरिष्ठ भाजपा नेता अशोक सिंह यादव के यहां पहुंचे। कुछ समय पूर्व अशोक यादव के पिता का निधन हो गया था। सिंधिया ने भाजपा नेता के पिता के निधन पर श्रद्धांजलि दी। मुलाकात के दौरान अशोक यादव ने बताया कि उनके पुरखे जमींदार थे। उनके सिंधिया राजवंश से पुराने संबंध रहे हैं। उनके परिवार का सात पुश्तों से सिंधिया राजवंश से संबंध रहा है। उनके स्व. पिता का स्व. महाराजा जीवाजी राव सिंधिया से अच्छे संबंध थे। उसके बाद राजमाता से सौहार्दपूर्ण संबंध रहे। उसके बाद पटरी बदल गई और आप भाजपा में आ गए। इस पर सांसद सिंधिया बोले कि पटरी चाहे कौन सी भी हो, लेकिन चलती साथ-साथ हैं। आप हमेशा हमारे सम्पर्क में रहें तथा मिलते रहें।

अशोक सिंह के घर पर सांसद सिंधिया
अशोक सिंह के घर पर सांसद सिंधिया

सादगी से मिलते नजर आए सिंधिया
सांसद सिंधिया जब कांग्रेस में थे, तब माना जाता था कि वह किसी से ज्यादा मिलते नहीं है। पर भाजपा में आने के बाद उनके व्यवहार में बहुत बड़ा परिवर्तन देखा गया है। भाजपा में आने के बाद सबसे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया विधानसभा उपचुनाव के दौरान मुरैना से अपने समर्थक कांग्रेस से भाजपा में आए रघुराज कंसाना के चुनाव प्रचार में आए थे। उन्होंने मुरैना की जनता से रघुराज कंसाना को जिताने की अपील की थी। यह बात अलग है, कि रघुराज कंसाना चुनाव नहीं जीत सके। वह 5400 वोट से हार गए थे। मार्च 2021 में जिले के छैरा, मानपुर व पावली गांव में जहरीली शराब पीने से 24 लोगों की मौत हो गई थी। उस समय सांसद सिंधिया मुरैना आए थे। उन्होंने शासन की ओर से मृतकों के परिजनों को 50-50 हजार रुपए सहायता राशि दी थी। यह उनका तीसरा दौरा था।

नागेन्द्र तवारी के यहां सांसद सिंधिया
नागेन्द्र तवारी के यहां सांसद सिंधिया

जनता में छवि सुधार रहे सांसद सिंधिया
सांसद सिंधिया के आगमन के दौरान उनके व्यवहार में बहुत बड़ा परिवर्तन देखने को मिल रहा है। वह हर व्यक्ति से बहुत आत्मीयता से मिल रहे हैं। उनकी इस छवि से राजनैतिक गलियारों में इस बात की चर्चा है कि, सांसद सिंधिया अपनी छवि सुधारने में लगे हैं। वह पार्टी कार्यकर्ताओं से अधिक निकटता बना रहे है। जिससे लोग उनसे मिलने में झिझक महसूस न कर सकें। इसके अलावा प्रशासनिक कार्यवाइयों के विषय में बयान देने से भी बचते दिखाई दिए।

मीडिया से रूबरु होते सांसद सिंधिया
मीडिया से रूबरु होते सांसद सिंधिया

लोगों से वैक्सीन लगवाने की अपील की
मीडया से रूबरु होते हुए सांसद सिंधिया ने कहा कि कोरोना वायरस से बचने का एकमात्र उपाय वैक्सीन है। इसलिए मैं, आप लोगों के द्वारा सबसे अपील करना चाहता हूं कि अधिक से अधिक वैक्सीन लगवाएं।