कांग्रेस व बीजेपी के जनप्रतिनिधि पुलिस थानो से वसूलते रंगदारी:बसपा नेता ने लगाए आरोप, कहा दोनों के गठबंधन के कारण निरंकुश हो चुकी पुलिस

मुरैना21 दिन पहले

कांग्रेस व बीजेपी के जनप्रतिनिधि जिले के थानों से महीनेदारी वसूल करते हैं। यह संगीन आरोप बसपा नेता प्रबल प्रताप सिंह उर्फ रिंकू मावई ने लगाए हैं। यह आरोप उन्होंने गुरुवार को बसपा कार्यालय में आयोजित एक प्रेसवार्ता में लगाए हैं। उनके इन आरोपों की चर्चा पूरे शहर में हो रही है।
इस मौके पर प्रेसवार्ता में उनके साथ बसपा के प्रदेश सचिव राजौरिया, जिलाध्यक्ष जितेन्द्र बौद्ध सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। उन्होंने भाजपा व कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन दोनों ही पार्टियों के जनप्रतिनिधि पुलिस थानों से महीनेदारी वसूल करते हैं जिसकी वजह से पुलिस गुण्डों, बदमाशों व माफिया को संरक्षण देती है। दोनों पार्टियों पर खुलकर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि एक टीआई का वेतन 45 हजार रुपए वेतन होता है। वह अपने वेतन में से महीनेदारी नहीं दे सकता। वह अपने क्षेत्र के शराब माफिया, सट्‌टा खिलाने वालों तथा तस्करों को संरक्षण देता है जिनसे वसूली करके दोनों पार्टियों के जनप्रतिनिधियों को महानेदारी पहुंचाई जाती है। उन्होंने कहा कि इन दोनों ही पार्टियों के जनप्रतिनिधि दिखाने जनता को दिखाने के लिए नूरा कुश्ती करते रहते हैं जबकि असल में दोनों एक हैं तथा दोनों के बीच गठबंधन है। इन दोनों ही पार्टियों के कारण मुरैना की जनता पिस रही है। उन्होंने बानमोर थाने के बारे में कहा कि किसे पता नहीं है कि वहां अवैध शराब कहां बेची जा रही है तथा किसके संरक्षण में बेची जा रही है। यही हाल मुरैना के थानों का है तथा यहां बुरा हाल है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस प्रशासन की कार्रप्रणाली में सुधार नहीं आया तो वह इसका विरोध करेंगे।
कांग्रेस छोड़ बसपा में आए मावई
प्रबल प्रताप उर्फ रिंकू मावई ने लगभग दो माह पहले ही कांग्रेस पार्टी छोड़ कर बसपा का दामन थामा है। उनके इस आक्रामक तेवरों से उनकी बातों में लोगों को सच्चाई झलकती दिखाई दे रही है। फिलहाल उनके इन गंभीर आरोपों की चर्चा पूरे शहर में की जा रही है।

खबरें और भी हैं...